उत्तर प्रदेश

यूपी में होगा फेरबदल? अमित शाह के बाद पीएम नरेंद्र मोदी से मिले सीएम योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच बातचीत का सिलसिला खत्म हो गया है। करीब डेढ़ घंटे तक चली इस मुलाकात में योगी ने अपने चार साल के कामकाज की रिपोर्ट प्रधानमंत्री को सौंपी। इसके अलावा यूपी में कैबिनेट विस्तार और अगले साल प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भी मंथन हुआ। अब योगी BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा से मिलने के लिए उनके आवास पर पहुंच गए हैं। यहां बैठक के बाद वह सीधे राष्ट्रपति भवन जाएंगे, जहां वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे।

6 बड़े बदलाव की तैयारी

  • पूर्वांचल को अलग राज्य बनाने पर फैसला हो सकता है।
  • योगी कैबिनेट का जल्द विस्तार हो सकता है।
  • जितिन प्रसाद और मोदी के करीबी MLC एके शर्मा को मंत्री बनाया जा सकता है।
  • यूपी संगठन में बड़े बदलाव हो सकते हैं।
  • किसानों को मनाने के लिए योगी कैबिनेट में जाट समुदाय से जुड़े चेहरे को भी शामिल किया जा सकता है।
  • नाराज विधायकों को मंत्रिमंडल और नेताओं को आयोग एवं निगम में अहम जिम्मेदारी दी जा सकती है।

UP की सियासत में पिछले 15 दिन में क्या-क्या हुआ ?

  • 27 मई को अचानक मध्य प्रदेश का दौरा खत्म करके उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल यूपी पहुंची थीं।
  • राज्यपाल के आते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनसे मुलाकात की। दोनों के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई।
  • एक जून को BJP के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष और यूपी के प्रभारी राधा मोहन सिंह लखनऊ पहुंचे।
  • बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह ने यूपी के कैबिनेट मंत्रियों और संगठन के नेताओं से मुलाकात की।
  • 5 और 6 जून को BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने बीएल संतोष, राधा मोहन सिंह से यूपी की रिपोर्ट ली।
  • 5 जून की शाम को जेपी नड्‌डा और बीएल संतोष ने पीएम मोदी से मुलाकात की।
  • 9 जून को कांग्रेस के दिग्गज नेता और राहुल गांधी के करीबी जितिन प्रसाद BJP में शामिल हो गए।
  • 10 जून को योगी आदित्यनाथ दिल्ली पहुंचे और यहां उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की।
  • 11 को योगी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जेपी नड्‌डा से मुलाकात की। राष्ट्रपति से भी मिलेंगे।
गुरुवार को योगी आदित्यनाथ ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी।

एक दिन पहले ही शाह और जितिन प्रसाद से मिले
योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार शाम करीब चार बजे दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। वहीं, दूसरी ओर BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। बताया जाता है कि योगी से मिलने से पहले नड्‌डा और पीएम मोदी ने यूपी को लेकर करीब दो घंटे तक बातचीत की। इसमें संगठन, सरकार और कैबिनेट प्रस्ताव को लेकर चर्चाएं हुईं। देर रात हाल ही में कांग्रेस छोड़कर BJP में शामिल होने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने यूपी भवन में योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई।

अनुप्रिया भी शाह से मिलीं, नजर मंत्रिमंडल विस्तार पर
गुरुवार को ही अमित शाह से अपना दल (एस) की अध्यक्ष व सांसद अनुप्रिया पटेल ने मीटिंग की। सूत्रों ने भास्कर को बताया कि अनुप्रिया ने शाह के सामने मोदी कैबिनेट में शामिल होने को लेकर प्रस्ताव दिया। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में संभावित मंत्रिमंडल विस्तार में अपने पति आशीष पटेल को शामिल करने की शर्त भी रखी। अपना दल एस के कुछ अन्य नेताओं को यूपी के अलग-अलग आयोग और निगमों में सदस्य बनाने को भी कहा। इसके अलावा जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के प्रत्याशियों को लेकर भी लंबी बातचीत हुई।

अपना दल (एस) की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने भी गुरुवार को गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की।

पूर्व मंत्री ने BJP पर साधा निशाना
योगी के दिल्ली पहुंचते ही BJP की सहयोगी पार्टी रही सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है। ओम प्रकाश राजभर ने सोशल मीडिया पर कहा, ‘भाजपा डूबती हुई नैया है। जिसको इनके रथ पर सवार होना है हो जाए पर हम सवार नहीं होंगे। जब चुनाव नजदीक आता है तब इनको पिछड़ो की याद आती है। जब मुख्यमंत्री बनाना होता है तो बाहर से लाकर बना देते है। हम जिन मुद्दों को लेकर समझौता किए थे, साढ़े चार साल बीत गया एक भी काम पूरा नहीं हुआ।’ ओमप्रकाश ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की। कहा कि अगर राष्ट्रपति यूपी के 24 करोड़ जनता को बचाना चाहते हैं तो ये जरूरी है।

Back to top button