उत्तर प्रदेश

यूपी में वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने के लिए नई रणनीति तैयार, इन गांंवों पर ध्यान देगी टास्क फोर्स

हाल ही केंद्र सरकार ने वैक्सीन की दूसरी खुराक देने में पिछड़ रहे राज्यों से रफ्तार बढ़ाने को कहा था। इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए अब गांवों पर खास ध्यान देने की योजना बनाई है।राज्य सरकार अब वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने के लिए गांवों को तीन श्रेणियों में विभाजित कर आगे बढ़ेगी।इस संबंध में आदेश जारी हो चुकी है और 1 नवंबर से नई योजना पर काम शुरू होगा।

राज्य में पहली और दूसरी खुराक में अंतर बड़ा

न्यूज18 की रिपोर्ट के अनुसार, राज्य सरकार ने नई रणनीति को ‘कलस्टर मॉडल 2.0’ नाम दिया है।करीब 12.5 करोड़ खुराकों के साथ उत्तर प्रदेश खुराकों की संख्या के मामले में सबसे आगे है। यहां की करीब 65 फीसदी को पहली खुराक मिल चुकी है, लेकिन दूसरी खुराक के मामले में यह सबसे पीछे रह रहे राज्यों में शामिल है और यहां की 20 फीसदी आबादी भी पूरी तरह वैक्सीनेट नहीं हो पाई ​है।

इन श्रेणियों में विभाजित किए जाएंगे गांव
जिलाधिकारियों को भेजे पत्र में उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि पहली खुराक के बचे लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए गांवों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। पहले लेखपाल उन लोगों का सत्यापन करेंगे, जिन्हें पहली खुराक लग चुकी है। इससे राज्य सरकार को भरोसेमंद आंकड़े मिलने की उम्मीद है।इसके बाद गांवों को 95 प्रतिशत से अधिक वैक्सीनेशन, 80-95 प्रतिशत वैक्सीनेशन और 80 प्रतिशत से कम वैक्सीनेशन कवरेज के आधार पर तीन श्रेणियों में विभाजित किया जाएगा।
कम कवरेज वाले गांंवों पर ध्यान देगी टास्क फोर्स

गांवों के वर्गीकरण के बाद पहले 95 प्रतिशत और 80-95 प्रतिशत वैक्सीनेशन कवरेज वाले गांवों को प्राथमिकता दी जाएगी। किसी गांव की पूरी पात्र आबादी को पहली खुराक लगने के बाद वहां के प्रधान को सम्मानित किया जाएगा। वहीं जिन गांवों में 80 प्रतिशत से कम कवरेज हुई है, उन पर ध्यान देने के लिए खंड स्तर पर टास्क फोर्स का गठन होगा।शहरों में वैक्सीनेशन की रणनीति में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा।

आशा और आंगनवाड़ी कर्मचारियों की भी ली जाएगी मदद

राज्य सरकार ने बताया है कि गांवों में वैक्सीन लेने से छूट गए लोगों की पहचान के लिए आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की मदद ली जाएगी और उन्हें गांव के सम्मानित लोगों की मदद से वैक्सीन लेने के लिए प्रेरित किया जाएगा।जानकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश में करीब 17.5 करोड़ लोग वैक्सीन लेने के पात्र हैं। अब सरकार की कोशिश है कि नई रणनीति के साथ ज्यादा से ज्यादा लोगों को जल्द वैक्सीनेशन कवरेज में लाया जा सके।

Back to top button