उत्तर प्रदेशराजनीति

यूपी में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की सरगर्मी तेज, जानिए कब तक आएगी फाइनल लिस्ट

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election 2021) की सरगर्मी तेज हो गई है। प्रदेश में जिलेवार आरक्षण की लिस्ट ब्लॉक और जिला मुख्यालय पर चस्पा की जा रही है। हालांकि इस लिस्ट में अभी बदलाव भी हो सकता है। क्योंकि आरक्षण की सूची को लेकर 8 मार्च तक आपत्तियां स्वीकार की जाएंगी। वहीं 12 मार्च तक उनका निस्तारण कर 15 मार्च को आरक्षण की अंतिम और फाइनल लिस्ट जारी की जाएगी।

पंचायती राज विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह के मुताबिक, जिलों को आरक्षण तय करके आपत्तियां मांगने और उन आपत्तियों पर विचार करके फाइनल आरक्षण तय किया जाएगा। इसे शासन को उन्हें 15 मार्च तक उपलब्ध करवाना है। उन्होंने बताया कि जिलों में अनंतिम आरक्षण पर आपत्तियां दर्ज करवाने के लिए पांच से छह दिन का वक्त दिया जाएगा।

आपत्तियों पर जांच के बाद फाइनल होगी लिस्ट
जानकारी के मुताबिक, आरक्षण पर आपत्तियां आने के बाद रोटेशन सिस्टम के अनुसार उनकी जांच की जाएगी। इस दौरान अगर किसी जगह के आरक्षण में कोई गड़बड़ी हुई होगी तो उसे दुरूस्त भी किया जाएगा। ऐसे में उस जगह की नई आरक्षण सूची जारी की जाएगी। हालांकि ये सब काम 15 मार्च से पहले ही निपटा दिया जाएगा।

रोटेशन सिस्टम के तहत तैयार किए गए लिस्ट

पंचायत चुनावों में आरक्षण की सूची को मंगलवार को सभी जिला मुख्यालयों पर चिपका दिया गया। इसमें सभी ग्राम पंचायतों का विवरण शामिल है। कुछ इलाकों की आरक्षण सूची को सोमवार रात को ही जारी कर दिया गया था। दरअसल इस बार उत्तर प्रदेश सरकार आरक्षण में रोटेशन सिस्टम का पालन कर रही है। इसी आधार पर लिस्ट तैयार किए गए हैं।

प्रदेश में जिला पंचायत सदस्यों की 3 हजार 51 ब्लॉक प्रमुखों की 826, क्षेत्र पंचायत सदस्यों की 75 हजार 855, ग्राम प्रधान पद की 58 हजार 194 और ग्राम पंचायत सदस्यों की 7 लाख 31 हजार 813 सीटें हैं। इनमें 51 फीसदी सीटें अनारक्षित हैं। वहीं 1 फीसदी अनुसूचित जनजाति, 21 फीसदी अनुसूचित जाति, 27 फीसदी अन्य पिछड़ा वर्ग और एक तिहाई सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित हैं।

Back to top button