उत्तर प्रदेश

यूपी में कूड़ेदान करप्शन: 800 रुपए के डस्टबिन की 7200 में सरकारी खरीद

जिन लोगों के अंदर भ्रष्टाचार का कीड़ा होता है, वो कहीं न कहीं से अपनी खुराक का इंतजाम भी कर लेते हैं. यूपी के बदायूं जिले का ये मामला इस बात का एक और सबूत है. इन दिनों यहां की ग्राम पंचायतों में स्वछता अभियान के तहत केंद्र से मिलने वाले रुपयों की लूट मची हुई है. आलम ये है कि बाजार में 800 रुपयों का मिलने वाले कूड़ेदान को 7200 रुपयों में खरीदा जा रहा है.

दरअसल जिले के ग्राम प्रधान स्वच्छता के नाम पर गांव-गांव कूड़ेदान रखवा रहे हैं. इस काम के लिए ग्राम निधि से एक कूड़ेदान का 7200 रुपया नियत है लेकिन ग्राम प्रधान और सचिव मिल कर मात्र 800 रूपए वाला कूड़ेदान गांव में रखवा कर उसका पूरा पैसा यानि 7200 रूपए निकाल कर बंदरबांट कर रहे हैं.

इतने बड़े घोटाले की जानकारी जब डीएम को पता चली तो उन्होंने एक गांव गुधनी का दौरा किया. यहां उन्होंने जमीनी हकीकत जांची तो पता चला कि बड़े स्तर पर यह घोटाला चल रहा है. लोगों ने बताया कि ग्राम प्रधान के माध्यम से गांव में यह कूड़ेदान रखवाये गए हैं और कोई बाहर की कम्पनी इसे लगा रही है. यह कूड़ेदान घटिया किस्म के हैं.

इस संबंध में जब ग्राम प्रधान से बात की गई तो महिला होने के नाते वह कैमरे के सामने नहीं आईं उनके पति ने जानकारी देते हुये बताया कि डीएम साहब के निर्देश पर हम इसका पैसा ग्राम निधि से नहीं देंगे. डीएम साहब ने गांव के सचिव पर कार्रवाई भी की है और जो पैसा निकल चुका है उसकी वसूली भी प्रधान और सचिव से की जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button