उत्तर प्रदेश

यूपी पंचायत चुनाव : बीजेपी का बड़ा फैसला, इन पर छोड़ा प्रत्याशी फाइनल करने का जिम्मा

लखनऊ. यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर बीजेपी ने इस बार कमर कसी है। इसके चलते चुनाव के बिगुल फूंकने पर दावेदारों में भी हलचल तेज है। वहीं बीजेपी ने तय किया है कि ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत सदस्य के प्रत्याशियों का चयन पार्टी जिला स्तर पर ही करेगी। यह भी स्पष्ट किया गया कि कोई चुनाव निशान नहीं दिया जाएगा। साथ ही यह भी कहा गया कि पार्टी इस बात का पूरा ध्यान रखेगी कि एक ही सीट पर पार्टी के दो पदाधिकारी या सदस्य प्रत्याशी चुनाव मैदान में न उतारें। यदि ऐसा होता है तो बैठक कर बात की जाएगी।

पार्टी जिला पंचायत सदस्य एवं ब्लॉक अध्यक्ष पद के लिए प्रत्याशी को चुनाव निशान देगी। साथ ही इनके प्रत्याशी भी घोषित किए जाएंगे। इसके अलावा बाकी पदों पर पार्टी उन प्रत्याशियों को चुनाव लड़ाएगी, जो पार्टी के पदाधिकारी या सदस्य होंगे। इसके लिए पार्टी में जिले के पदाधिकारी नामांकन कराने वालों पर पूरी निगाह रखेंगे। पार्टी क्षेत्र पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य के लिए होने वाले चुनावों में पार्टी के पदाधिकारी या सदस्यों को ही समर्थन करेगी।

पार्टी पदाधिकारियों का मानना है कि केंद्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार होने के चलते ग्राम स्तर पर बड़ी संख्या में पार्टी के पदाधिकारी चुनाव मैदान में उतार सकते हैं। क्योंकि उन्हें पार्टी की छवि की वजह से लाभ मिलने की उम्मीद है।

इसके चलते एक ही सीट पर कई प्रत्याशियों के आने से नुकसान भी हो सकता है। इससे विपक्षी जीत सकते हैं। इसलिए जिले स्तर पर पदाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि एक सीट पर पार्टी के ही कई कार्यकर्ता अगर प्रत्याशी के रूप में उतरते हैं तो उन्हें समझाने का प्रयास किया जाए।

अगर किसी स्थान पर नामांकन कराने वाले नहीं मानें तो उन्हें चुनाव लड़ने दिया जाए। जहां भी पार्टी का कोई एक ही कार्यकर्ता चुनाव मैदान में होगा, पार्टी उसे पूरा सहयोग करेगी।

Back to top button