जरा हट के

यहां शादी के 3 दिन दूल्हा-दुल्हन के टॉयलेट जाने पर है बैन, कारण जान उड़ जायेंगे होश

प्रत्येक देश में लोगों के विवाह के लिए विभिन्न अनुष्ठान होते हैं। कहीं शादी के अनुष्ठान बहुत ही शांत और हल्के तरीके से किये जाते है, कुछ स्थानों पर विवाह के नाम पे पानी के तरह पैसे बहाये जाते है। कहीं दूल्हा घोड़ी चढ़के आता है तो कहीं दूल्हे को सिर्फ धोती और बनियान में शादी में खड़ा कर देते है । ऐसे ही एक देश में एक अजीब गरीब अनुष्ठान है। यहां शादी के दिन दूल्हा और दुल्हन को शौचालय जाने की अनुमति नहीं है।

ये अजीब अनुष्ठान इंडोनेशिया में माने जाते हैं। यहां टीडॉन्ग समुदाय के लोग इस नियम को बहुत महत्वपूर्ण मानते हैं और पूर्ण ईमानदारी से नियमोंका पालन भी करते हैं। नियमों के अनुसार, शादी के 3 दिन तक दूल्हा और दुल्हन शौचालय नहीं जा सकते हैं। यदि वो शौचालय जाते हैं तो इसे दुर्भाग्य के रूप में माना जाता है।

असल में, ऐसा माना जाता है कि विवाह एक पवित्र त्यौहार है, और शौचालय जाने से इसकी शुद्धता कम हो जाती है। शौचालय जाने से, दूल्हा और दुल्हन प्रदूषित हो जाते हैं। अन्य कारण हैं, यह जानने के बाद आप समझेंगे कि अंधविश्वास सिर्फ भारत में ही नहीं फैला हुआ है बल्कि उसने अन्य देशों को भी अपनी पकड़ में ले लिया है।

यह भी माना जाता है कि शौचालय में लोग अपने शरीर की गंदगी छोड़ देते हैं। जिसके कारण वहाँ नकारात्मक शक्तियां बसी हुई होती हैं। यदि दूल्हा और दुल्हन विवाह के बाद शौचालय का उपयोग करते हैं, तो उनका वैवाहिक जीवन खतरे में पड़ सकता हैं। शौचालय में मौजूद बीमारियां उनके रिश्तों में दर्द का कारण बन सकती हैं।

तीन दिनों के लिए दूल्हा और दुल्हन को शौचालय नहीं जाना होता हैं, इसकी तैयारी बहुत पहले से की जाती है। शादी के बाद, दूल्हा और दुल्हन के भोजन पर विशेष देखभाल दिया जाता है। उनको कोई भी तकलीफ न हो इसलिए परिवार के लोग उनके साथ ही रहते हैं।

Back to top button