उत्तर प्रदेश

महामारी ने बढ़ाई मुश्किलें : कोरोना टेस्ट के लिए भटक रहे है लोग, कई घंटे घूमने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं 

वाराणसी जिले में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ा हैं। शुक्रवार को सुबह आयी रिपोर्ट में 948 नये संक्रमित पाये गये हैं। ऐसे BHU OPD बंद होने पर दूसरे मरीज और परिजन परेशान हो रहे हैं। BHU में मरीज का वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन होने के बाद टेलीमेडिसिन की सुविधा मिल पा रही हैं। दूसरे पेशेंट को एडमिट नहीं किया जा रहा हैं। भटकते परिजन वापस घर लौट रहे हैं। वही कोविड टेस्ट के लिए ईएसआईसी अस्पताल पांडेयपुर में भी लोग भटकते मिले। लाइन लगाने के बाद भी उनका नंबर नहीं आया। काउंटर पर लोग ठीक से बातो का जवाब तक नहीं दे रहे हैं।

कोविड टेस्ट के लिए भटक रहे लोगों ने बताया दर्द

रोहनिया में बैंक में प्रबंधक के पद पर कार्यरत अजय शर्मा ने बताया ईएसआईसी अस्पताल पांडेयपुर में कोविड टेस्ट के लिए आया हूँ। बोल रहे आज टेस्ट नही हो पायेगा। कल रजिस्ट्रेशन करवा लीजिए तब परसो टेस्ट होगा। डॉक्टर बोलते CMO से बात करिए। लंका निवासी प्रशांत दुबे ने बताया कि टेस्ट कराने आया था। बोल रहे कोटा हो गया हैं। इतनी दूर से धूप में आने पर ऐसे ही हालत खराब हो जा रही हैं।

CMO का दावा टेस्टिंग हम लोगो ने बढ़ा दी है

कार्यकारी CMO डॉ एनपी सिंह ने बताया BHU समेत सभी सरकारी, निजी अस्पतालों को मिला कर 8000 के करीब टेस्टिंग होना हैं। जबकि 10 हजार सैंपलिंग करीब रोज किया जा रहा हैं। ऑक्सीजन भी 6000 सिलेंडर का प्रोडक्शन हो रहा है। 3000 सिलेंडर की आवश्यकता पड़ रही हैं। कोविड के लिए 1450 बेड है। बाकी तैयारी चल रही हैं।

कई घंटे घूमने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हुई

मडुआडीह निवासी परिजन रंजेश कुमार ने बताया चाचा मंजय कुमार को लेकर BHU पेट मे दर्द की वजह से दिखाने आया था। पता चला सब बंद हैं। डॉक्टर कुछ भी सुनने को तैयार नही है। बोल रहे है कि बेड ही नहीं हैं। BHU जिम्मेदार के अधिकारियों का मानना है कि सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, रेडियोथेरेपी में केवल मरीज अटेंड हो रहे हैं। जबकि परिजन वहां भी परेशान ही दिखे। परिजन रामपथ ने जीजा को लेकर कीमो दिलवाने आये थे, कंपाउंडर ने मना कर दिया बाद में आना।

Back to top button