देश

महाकाल मंदिर में तोड़ी परंपरा: लहसुन, हरी मिर्च, टमाटर और हरी सब्जी लाया श्रद्धालु, पुजारी ने बाबा को अर्पित भी कर दिए

उज्जैन,

श्री महाकालेश्वर मंदिर में फिलहाल आम श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद है। मंदिर में केवल पुजारी और पुरोहित ही पहुंच रहे हैं। इसके बाद भी सोमवार को संध्या पूजन के पहले बाबा महाकाल की जलाधारी के आसपास एक पुजारी ने श्रद्धालु द्वारा दी गई लहसुन, हरी मिर्च, टमाटर और हरी सब्जी महाकाल को चढ़ा दी। मामला सीसीटीवी पर लाइव देख रहे एक अधिकारी के सामने आने के बाद गर्भगृह निरीक्षक और संबंधित पंडित को फटकार लगाई। पुजारी से जवाब-तलब किया है।

श्री महाकालेश्वर मंदिर में लाखों भक्तों की आस्था जुड़ी है। भगवान महाकालेश्वर को भांग मेवा, मिष्ठान, फल, फूल, नए वस्त्र, आभूषण अर्पित किए जाते हैं। सोमवार शाम 4 बजे संध्या पूजन से पहले गोपाल पुजारी ने किसी श्रद्धालु द्वारा दिए गए लहसुन, हरी मिर्च, टमाटर और हरी सब्जी अर्पित कर दी। मामला उस समय सामने आया, जब सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल ने ऑफिस में लगे सीसीटीवी पर लाइव दर्शन से यह दृश्य देखा। उन्होंने तुरंत गर्भगृह निरीक्षक विजय डोडिया से जानकारी ली। गोपाल पुजारी ने बताया कि श्रद्धालु की मन्नत पूरी होने के कारण यह सब्जी भगवान को अर्पित करने के लिए दी थी।

मंदिर के कंट्रोल रूम को नहीं जानकारी

मंदिर परिसर में गर्भगृह समेत चारों ओर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। वहीं, सभी ओर नजर रखने के लिए मंदिर परिसर में ही कंट्रोल रूम है। यहां कर्मचारियों की ड्यूटी भी रहती है। कंट्रोल रूम से मंदिर परिसर में होने वाली हर घटना पर नजर रखी जाती। सोमवार को जलाधारी में सब्जी अर्पित करने के मामले में जब कंट्रोल रूम मैं बैठे कर्मचारियों से जानकारी ली, तो उन्होंने इस संबंध में जानकारी होने से इनकार कर दिया।

श्रद्धालुओं के दर्शन पर गई थी नौकरी

बता दें, करीब 15 दिन पहले 29 मई को एक श्रद्धालु ने मंदिर परिसर में घूमते हुए नैवेद्य द्वार से उतरकर गर्भगृह के सामने देहरी तक पहुंचकर दर्शन किए थे। मामले में दो कर्मचारियों की सेवा समाप्ति कर दी गई थी।

जवाब तलब किया गया है
महाकाल की जलाधारी में लहसुन, टमाटर, हरी मिर्च, सब्जी रखने का मामला सामने आया है। इस संबंध में गर्भगृह निरीक्षक और पंडित को जवाब-तलब किया है। वहीं, कंट्रोल रूम में बैठक कर्मचारियों को भी नजर रखने की हिदायत दी है।

मूलचंद जूनवाल, सहायक प्रशासक, मंदिर समिति

Back to top button