देश

महंत ने भतीजे और जमाई की ब्लैकमेलिंग से तंग आकर दी जान, हार्ट अटैक बता दिया परिवार

राजकोट के कागदडी गाम स्थित खोडियार आश्रम के महंत की मौत के मामले में उनका सुसाइड नोट मिलने से नया मोड़ आ गया है। नोट में महंत ने लिखा है कि पिछले काफी समय से उनका भतीजा और दामाद उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे। दोनों ने प्लान के तहत एक महिला संग उनके कुछ वीडियो बना लिए थे और इसी को सार्वजनिक कर उन्हें बदनाम करने की धमकी देकर पैसों के लिए ब्लैकमेल कर रहे थे।

महंत जयरामदास के हाथों लिखा यह सुसाइड नोट आश्रम से ही मिला है। सुसाइड नोट में महंत ने तीन आरोपियों के नाम लिखे हैं। इनमें हितेश लखमणभाई जादव, विक्रमभाई सोहल, अल्पेश सोलंकी शामिल हैं। यहां चौंकाने वाली बात यह है कि रिश्ते में हितेश महंत का सगा भतीजा और अल्पेश उनका जमाई है।

परिवार ने हार्ट अटैक बताकर उनका अंतिम संस्कार कर दिया था।

नोट में महंत ने यह भी लिखा है कि तीनों की ब्लैकमेलिंग से तंग आकर वे जहर खाकर सुसाइड कर रहे हैं। सुसाइड नोट मिलने के बाद आश्रम के ट्रस्टी रामजीभाई ने तीनों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज करवाया है। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

परिवार ने हार्ट अटैक बताकर कर दिया था अंतिम संस्कार
बता दें, महंत की मौत आश्रम में 1 जून की रात को हुई थी। सुबह परिवारजनों ने मौत का रहस्य छिपाने के लिए आसपास के लोगों से कहा था कि हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई है। इसके बाद आनन-फानन में गांव में ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया था।

महंत ने आश्रम के दूसरे कमरे में छोड़ा था सुसाइड नोट

आश्रम के ट्रस्टी रामजीभाई का कहना है कि महंत शायद जानते थे कि सुसाइड नोट मिलने पर परिवार के लोग उसे नष्ट कर सकते हैं। इसी के चलते उन्होंने सुसाइड नोट आश्रम के दूसरे कमरे में छोड़ दिया था, जो कि खाली पड़ा था। मंगलवार की दोपहर कमरे की साफ-सफाई के दौरान उनका सुसाइड नोट मिला। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

Back to top button