उत्तर प्रदेश

भारी पड़ रही महामारी, कोरोना की दूसरी लहर में यूपी के 32 डॉक्टरों की हुई मौत

लखनऊ. Second Wave of Corona-कोरोना वायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर में अब तक 32 चिकित्सकों की मृत्यु हो चुकी है। इन सभी की मौत का कारण कोरोना वायरस है। उत्तर प्रदेश इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (Indian Medical Association) के अनुसार यह बात कही गई है। संक्रमण की पहली लहर में प्रदेश के 54 चिकित्सकों की मौत हो गई थी।

इन डॉक्टरों की हुई मौत

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन यूपी के कोविड टास्क फोर्स के अध्यक्ष डॉ. अशोक राय के मुताबिक अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से जान गंवाने वाले उत्तर प्रदेश के डॉक्टरों में लखनऊ की अल्पना झा, लखनऊ के सेवानिवृत्त चिकित्सक केपी दुबे, लखनऊ के ही राम कृष्णा और सेवानिवृत्त चिकित्सक राकेश शमशेरी, लखनऊ के एपी दुबे, लखीमपुर की श्यामा गुप्ता सीतापुर के आनंद टंडन, गोंडा के एपी मिश्रा, बाराबंकी के राघवेंद्र सिंह, गोरखपुर के अखिलेश पासवान, रामपुर के मो अशरफ अली, सहारनपुर की स्वाति सिंह और संजीव शाक्य, ललितपुर के वीपी इटालिया, अमेठी की लक्ष्मी साहू, बहराइच के अनीश पाल, फिरोजाबाद के प्रदीप कुमार, संतकबीर नगर के वीके सिंह, जालौन के एम आई सिद्दीकी, आगरा के आर एस कटियार, संजीव वार्ष्णेय, सहारनपुर के ब्रजलाल गुप्ता, हरदोई की सविता चौबे, बिजनौर के युवराज गर्ग, प्रयागराज के भारत अरोरा, गाजियाबाद के अनमोल त्यागी, विवेक अरोरा, शेखर अग्रवाल और मनोज भाटी, मुजफ्फरनगर के राजीव शर्मा, सुल्तानपुर के एम जे शर्मा, आजमगढ के केएन सिंह, आगरा के एसपी भारद्वाज शामिल हैं।

रोगियों के इलाज के दौरान हुए थे संक्रमित

डॉ. अशोक राय के अनुसार मृतकों में से अधिकतर डॉक्टर कोरोना वायरस से संक्रमित रोगियों के इलाज के दौरान संक्रमित हुए थे, जबकि कुछ अपने घर पर संक्रमण की चपेट में आए थे।

Back to top button