देश

भारत को कोरोना में फंसा देख नई चाल चला चीन, सीमा पर लाया सबसे घातक हथियार.. देखें Video

पेइचिंग :  पूर्वी लद्दाख पर नजरें गड़ाए बैठे चीन ने भारत को कोरोना महात्रासदी में फंसा देखकर अपनी जंगी तैयारी तेज कर दी है। चीन ने अपने बेहद घातक और लंबी दूरी तक मार करने वाले अत्‍याधुनिक PHL-03 मल्टिपल रॉकेट लॉन्‍चर्स को तिब्‍बत में भारतीय सीमा के पास तैनात किया है। चीन के सरकारी टीवी चैनल सीसीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक इन लॉन्‍चर्स को भारतीय सीमा पर तैनात शिंजियांग कमांड को सौंपा गया है।

सीसीटीवी का दावा है कि ट्रक पर लादकर ले जाया जाने वाला यह अत्‍याधुनिक रॉकेट पूरी तरह से कंप्‍यूटर चालित है और एक साथ कई ठिकानों को तबाह कर सकता है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक इन रॉकेट लॉन्‍चर्स को लद्दाख सीमा पर 5200 मीटर की ऊंचाई पर तैनात किया गया है। यह वहीं इलाका है जहां पर गलवान में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई थी।

चीन ने अपने बेहद हल्‍के टाइप 15 टैंक तैनात किए
सीसीटीवी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि इन रॉकेट लॉन्‍चर्स को तेजी से तैनात किया जा सकता है और प्रमुख इलाकों पर कब्‍जा किया जा सकता है। उसने कहा कि इन रॉकेट लॉन्‍चर्स की मदद से चीनी सैनिक तिब्‍बत के पठारी इलाके, रेगिस्‍तान और हर मौसम में युद्ध लड़ सकेंगे। इस रॉकेट लॉन्‍चर में 12 ट्यूब हैं जिसमें 12 इंच कैलिबर की बैरल है। प्रत्‍येक रॉकेट का वजन करीब 800 किलोग्राम है। इन रॉकेट की मारक क्षमता 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से 130 किमी तक है।

सीसीटीवी ने दावा किया है कि मात्र तीन म‍िनट के अंदर इस रॉकेट सिस्‍टम को जंग के लिए तैयार किया जा सकता है। इस रॉकेट लॉन्‍चर को चीन के बाइदू सिस्‍टम से जोड़ा गया है जिससे यह सटीक वार कर सके। लद्दाख में भारतीय सेना को जवाब देने के लिए चीन ने अपने बेहद हल्‍के टाइप 15 टैंक, 155 मिलीमीटर की तोप PCL-181, ऊंचाई वाले इलाकों में उड़ान भरने में सक्षम ड्रोन तैनात किए हैं। चीन यह जंगी तैयारी ऐसे समय पर कर रहा है जब भारत कोरोना वायरस से बेहाल है। हर दिन हजारों लोगों की मौत हो रही है। चीन का दावा है कि वह भारत की कोरोना त्रासदी से निपटने में मदद कर रहा है।

Back to top button