उत्तर प्रदेश

बुखार के मरीज अप्रशिक्षित चिकित्सकों से इलाज न कराकर सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र पर इलाज करायें : डीएम

मैनपुरी। जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने प्रतिदिन की भांति आज भी महाराजा तेज सिंह जिला चिकित्सालय में भर्ती मरीजों, उनके परिजनों से प्रदान की जा रही स्वास्थ्य सेवाओं की जानकारी ली। उन्होने मरीजों, उनके तीमारदारों से कहा कि धैर्य रखंे, चिकित्सक द्वारा दी गयी परामर्श के अनुसार मरीज को समय से दवा खिलायें, उसे भरपेट पौष्टिक आहार दें, किसी के बहकावे में न आयें, जिला चिकित्सालय, सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों पर मरीजों को प्रशिक्षित चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा रही है, जिला चिकित्सालय में बेहतर देखभाल हो रही है, समय से दवाइयां, जांचे निःशुल्क कराई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि बीमार होने की दशा में तत्काल समीपवर्ती सामुदायिक, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाएं, जिला चिकित्सालय में आकर स्वास्थ्य सेवाएं लें, किसी भी दशा में झोलाछाप डॉक्टर से इलाज न कराएं यदि कोई असुविधा हो तो तत्काल मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में स्थापित फीबर हेल्पडेस्क के दूरभाष संख्या- 05672- 240251 पर कॉल करें।

जिलाधिकारी ने ड्यूटी पर तैनात चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टॉफ से कहा कि जिला चिकित्सालय में आने वाले मरीजों को तत्काल बेहतर उपचार दिया जाये, जो मरीज भर्ती के लायक है, उन्हें भर्ती कर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जायें, जिला चिकित्सालय में बैड की कमी नहीं है, प्रतिदिन मरीज डिस्चार्ज होकर जा रहे हैं, मरीजों को भर्ती कर उनकी उचित देखभाल की जाये, ड्यूटी पर तैनात स्टॉफ निरतंर क्रियाशील रहकर मरीजों की देखभाल करें, लगातार संवाद बनाये रखें ताकि मरीजों, उनके तीमारदारों के मन में कोई भ्रम, भय न रहे। उन्होने मरीजों, उनके तीमारदारों से संवाद करते हुए कहा कि संचारी रोगों से बचने के लिए सतर्कता बरतें, अपने आसपास जलभराव न होने दें। अप्रशिक्षित चिकित्सकों से इलाज न कराकर सीधे सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र पर विशेषज्ञ चिकित्सकों से इलाज करायें और तत्काल राहत पायें।

भ्रमण के दौरान उन्होने ड्यूटी पर तैनात पैरामेडिकल स्टॉफ, चिकित्सकों से कहा कि निरतंर वार्डों का निरीक्षण कर भर्ती मरीजों से सेहत की जानकारी करें, प्रत्येक मरीज को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जायें, किसी मरीज, उनके तीमारदार को असुविधा का सामना न करना पड़े, शौचालयों में साफ-सफाई के साथ-साथ पानी की उपलब्धता का विशेष ध्यान रखा जाये, डस्टबिन नियमित रूप से साफ करायी जाये।निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्साधीक्षक डा. अरविन्द गर्ग आदि उपस्थित रहे।

Back to top button