उत्तर प्रदेशख़बर

बुआ-बबुआ के गठबंधन का एलान, सपा-बसपा में 38-38 सीटों पर पक्की हुई बात

उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव को लेकर सपा-बसपा ने गठबंधन का ऐलान कर दिया है। दोनों पार्टियों 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में इस बात का ऐलान कर दिया है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि सपा और बसपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। बिना किसी गठबंधन के कांग्रेस के लिए रायबरेली और अमेठी की सीट छोड़ दी गई है। इसके अलावा बाकी दो सीटें सहयोगियों को दी जाएगी। मायावती और अखिलेश यादव किसी सीट से चुनाव लडेंगें इस बात का ऐलान बाद में किया जाएगा।

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने कहा-
लखनऊ के होटल ताज में मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह पर निशाना साधा। मायवती ने कहा, ये साझा प्रेस कांफ्रेंस मोदी-शाह की नींद उड़ाने वाली प्रेस कांफ्रेंस है। माया ने कहा, हमने देशहित में गेस्ट हाउसकांड को पीछे छोड़ दिया है। मायावती ने कहा, लोकसभा और विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने जनता के साथ धोखा किया है। मायावती ने कहा अगर उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन करती है तो लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार तय है।

मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, सपा-बसपा ने संयुक्त रूप से ये निर्णय लिया है कि हमारे गठबंधन में किसी भी ऐसे दल को शामिल नहीं किया जाएगा। जिसमें हमारे गठबंधन को नुकसान हो। कांग्रेस को गठबंधन में शामिल नहीं करने को लेकर माया ने कहा, आजादी के बाद से कांग्रेस ने एकछात्र राज्य किया है। कांग्रेस के कार्यकाल में देश में बेरोजगारी, भ्रष्टाचार बढ़ा है गरीब और दलित वर्ग की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है। माया ने कहा, कांग्रेस के राज्य में घोषित इमरजेंसी थी बीजेपी के कार्यकाल में अघोषित इमरजेंसी है। गठबंधन को लेकर मायावती ने कहा, कांग्रेस के साथ गठबंधन करने पर हमें फायदा नहीं हुआ। हर बार हमारा वोट प्रतिशत कम हो हुआ है। 1986 में कांग्रेस के साथ गठबंधन करके हमारा नुकसान हुआ था विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी ने भी कांग्रेस से गठबंधन किया था जिसका खमियाजा समाजवादी पार्टी को भुगतना पड़ा था।

अखिलेश यादव ने कहा-
सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि मायावतीजी पर बीजेपी नेताओं ने अशोभनीय टिप्पणियां की। इन नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। मैं बता देना चाहता हूं कि मायावतीजी का सम्मान मेरा सम्मान है। उनका अपमान मेरा अपमान है।

Back to top button