राजनीति

बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र कल से शुरू, जबरदस्‍त हंगामे के आसार…

पटना। बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है। इस बार के छोटे सत्र के लिए विपक्ष  बड़े हंगामे की तैयारी में है। मुख्य विपक्षी दल राजद की तैयारी ऐसी है कि सरकारी बिल और विधेयक भले ही पारित हो जाएं, सवाल-जवाब की नौबत नहीं आएगी। इस सत्र में दो विधेयक, गैर सरकारी संकल्प और द्वितीय अनुपूरक बजट ही पेश होंगे। 

सत्र की शुरुआत सोमवार को होगी। उस दिन शोक प्रस्ताव के बाद बैठक स्थगित हो जाएगी। उसके अगले दिन दो विधेयक पेश होंगे। जीएसटी से जुड़ा विधेयक उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पेश करेंगे। वे राज्य के वित्त मंत्री भी हैं।

जीएसटी में केंद्र सरकार ने कुछ संशोधन किया है। ये संशोधन फिलहाल अध्यादेश के जरिए राज्य में लागू हैं। विधेयक पारित होने के बाद संशोधन को स्थायित्व मिल जाएगा। अध्यादेश खत्म हो जाएगा। द्वितीय अनुपूरक बजट के लिए दो दिन का समय रखा गया है।

अंतिम दिन शुक्रवार को गैर-सरकारी संकल्प लिए जाएंगे। विधान परिषद के लिए भी सरकार और विपक्ष का यही एजेंडा रहेगा। इधर, मुख्य विपक्षी दल राजद ने कहा है कि राज्य में सरकार का वजूद दिन-ब-दिन खत्म होता जा रहा है।विपक्ष की मांग होगी कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने पद से इस्तीफा दें।

राजद के मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने कहा कि सीबीआइ के निदेशक ने कुबूल किया है कि रेलवे से जुड़े एक मामले में पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को फंसाया गया है। इसमें पीएमओ और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का सीधा हाथ है।

राजद के सदस्य इस मुद्दे को सदन में जोरदार ढंग से उठाएंगे। इसके अलावा सरकारी राशि का घोटाला, अपराध में लगातार वृद्धि, शिक्षा की बदहाली, विकास और शराबबंदी के नाम पर अफसर और पुलिस की कथित लूट को भी मुद्दे के तौर पर चिन्हित किया गया है। राजद विधायक दल की बैठक सोमवार को हो सकती है। इसमें कुछ और मुद्दे भी तय हो सकते हैं। 

Back to top button