उत्तर प्रदेश

प्रतिनिधि सभा का विघटन नेपाल को अशांति और संघर्ष की ओर ले जाएगा : पूर्व राजदूत रंजीत रे

रूपईडीहा/बहराइच । नेपाल के पूर्व भारतीय राजदूत रंजीत रे ने कहा है कि राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की सिफारिश पर प्रतिनिधि सभा को भंग करने का निर्णय नेपाल को और अधिक अशांति और संभावित संघर्ष की ओर ले जाएगा। मीडिया में बोलते हुए राजदूत रे ने यह भी उल्लेख किया कि ओली का कदम संवैधानिक शासन का अपमान है। उन्होंने कहा कि कोराना महामारी के दौरान लिए गए निर्णय से नेपाल की भविष्य की स्थिरता में सुधार नहीं होगा।

उन्होंने उल्लेख किया है कि सारी शक्ति बिना किसी संसदीय जवाबदेही के प्रधान मंत्री ओली और राष्ट्रपति भंडारी में केंद्रित है। उन्होंने कहा, “भारत ने हमेशा नेपाल में बहुदलीय लोकतंत्र और प्रगतिशील बदलाव का समर्थन किया है।” आज नेपाल में यह समझा जा रहा है कि भारत ने नेपाल के अलोकप्रिय और निरंकुश शासन का समर्थन किया है।

इस समझ का एक कारण यह भी है कि दोनों देशों के बीच उच्च स्तरीय यात्रा हो रही है। राजदूत रे ने नेपाली विश्लेषकों द्वारा महंत ठाकुर और राजेंद्र महतो को भारत को दिए गए समर्थन का भी उल्लेख किया है और कहा है कि भारत को इसका खंडन करना चाहिए और उन्होंने सुझाव दिया कि भारत को नेपाल में संवैधानिक शासन के लिए सार्वजनिक रूप से अपना समर्थन व्यक्त करना चाहिए। उन्होंने नेपाल और भारत के बीच हुए समझौते के अनुसार नेपाल का टीकाकरण करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि भारत को सभी दलों के साथ जुड़ना चाहिए ।

Back to top button