उत्तर प्रदेश

पीपल पेड़ के नीचे रह रहा पूरा गांव, वजह जानकर आपका दिमाग घूम जाएगा

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले से एक ऐसा मामला सामने आया है जहां एक गांव के लोग घर छोड़ दिन-रात पीपल के पेड़ के नीचे गुजारते हैं, और यह एक कोरोना के डर के चलते हुआ है. इन लोगों ने यह सुन लिया कि पीपल के पेड़ के नीचे खड़े होने से ऑक्सीजन लेवल बढ़ जाता है.

दरअसल, यह मामला आगरा के नौफरी गांव का है, यहां के लोग पीपल के पेड़ के नीचे बैठ कर ऑक्सीजन खींच रहे हैं. इन दिनों यहां पीपल के पेड़ के नीचे लोगों की भारी भीड़ नजर आ रही है. गांव के इस सैकड़ों वर्ष पुराने पीपल के पेड़ को लोग जीवन रक्षक मान रहे हैं.

कोरोना संक्रमण से दो-दो हाथ करने की सबने ठानी है. शहरों में आधुनिक सुविधाएं हैं तो गांव वालों ने अपने देसी उपाय अपनाए हैं. आगरा जिले के ब्लॉक बरौली अहीर की ग्राम पंचायत नौबरी के लोग गांव में लगे पीपल के वृक्षों की शरण में हैं. नियमित तौर पर ग्रामीण इन वृक्षों ने नीचे बैठकर अपना ऑक्सीजन लेवल बढ़ा रहे हैं, तो शुद्ध वातावरण में भरपूर सांसें ले रहे हैं.

पिछले 15 दिन से रोजाना विनोद शर्मा पीपल के पेड़ पर ही रहते हैं, विनोद शर्मा पीपल के पेड़ पर खाट डालकर सोते हैं और दिनभर में करीब 5 घंटे तक पीपल के पेड़ पर ही बने रहते हैं. विनोद शर्मा का दावा है कि उनका ऑक्सीजन लेवल अब पहले से काफी बेहतर है.

इसके अलावा ग्राम प्रधान ने गांव को सेनेटाइज कराने के साथ ही एक अस्थायी अस्पताल बनवाया है. स्वास्थ्य विभाग की टीमें गांव में समय-समय पर जांच कर रहे हैं.

Back to top button