उत्तर प्रदेश

पंचायत चुनाव : जो कभी दिखाई नहीं देते थे चुनाव आते ही दर-दर भटकने लगे नेताजी

मैगलगंज-खीरी।चुनाव की सरगर्मियां जैसे-जैसे बढ़ने लगी है क्षेत्र में प्रत्याशियों की हलचल भी तेज होती जा रही है।पसगवां पंचम जिला पंचायत सदस्य की सीट अभी तक क्लियर नहीं हुई है लेकिन फिर भी समस्त संभावित प्रत्याशी अपनी-अपनी गोटिया बिछाने में व्यस्त दिखाई दे रहे हैं तो क्षेत्र मे पड़ने वाले गांव की प्रधानी अब ज्यादा सक्रिय दिखाई पड़ रही है हालांकि अभी तक किस गांव की क्या तस्वीर रहेगी यह स्पष्ट नहीं हुआ है।

लेकिन फिर भी सब अपना अपना दावा मजबूत करने पर लगे हैं जो लोग दिखाई तक नहीं पड़ते थे आज गांव गांव जाकर सबसे करीबी होने का ढोंग रचते नजर आ रहे हैं विकास के नाम पर सिर्फ पंचम जिला पंचायत सीट पर प्रत्याशी का ही विकास दिखाई देगा हालांकि अपने चहेतों की उम्मीदों पर खरा उतरने का पूरा प्रयास किया गया और फिर जो जितनी मक्खन बाजी कर पाया नेता जी ने उतनी ही कृपा उस पर की लेकिन जहां पर फायदा दिखा वहां पर खुद की भी ना सुन पाए वही हाल क्षेत्र में पड़ने वाले गांव के प्रधानों का भी है.

अगर पसगवा पंचम सीट आरक्षित होती है तो जिले के कई कद्दावर नेता अपने प्रतिनिधियों को जिताने के लिए ताल ठोकते नजर आएंगे भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता जुगल किशोर भी अपने परिवार व नजदीकी उम्मीदवार को पसगवां पंचम सीट आरक्षित होने पर लड़ा सकते हैं।अगर ऐसा होता है तो सारा समीकरण धरा का धरा ही रह जाएगा क्योंकि क्षेत्र की जनता भी चाहती है कि अगला जिला पंचायत अध्यक्ष पसगवां पंचम का हो वैसे भी बीते हुए समय में सिर्फ आम जनमानस को वोट लेकर छला ही गया है विकास का कहीं एक बोर्ड भी नहीं दिखाई पड़ता अगर कहीं दिखाई पड़ता है तो वह नेता जी के खेत का होगा या फार्म हाउस का रास्ता या फिर नेताजी के किसी करीबी का फिलहाल जब तक स्थितियां साफ नहीं हो जाती है तब तक चुनाव के समीकरण रोजाना बनते और बिगड़ते नजर आ रहे हैं।

Check Also

उत्तर प्रदेश के बागपत से एक बेहद ही हैरान कर देना वाला वीडियो सामने आया …

Back to top button