उत्तर प्रदेश

नाना का स्मारक देखने इंग्लैंड से आया नाती,1936 में पुलिस अधीक्षक पद पर थे तैनात

सन 1936 में फर्रुखाबाद जिले में पुलिस अधीक्षक पद पर तैनात रहे इंग्लैंड के जीडब्ल्यू कोल की फतेहगढ़ पुलिस लाइन में स्मारक है। उनके नाती इंजीनियर माइकल क्लेव सोमवार को जिले में आए और पुलिस अधीक्षक के साथ स्मारक पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। 

इंग्लैंड से 15 दिन के भ्रमण कार्यक्रम पर भारत आए माइकल क्लेव ने पुलिस लाइन पहुंच कर एसपी संतोष मिश्रा से मुलाकात की। इसके बाद एसपी और एएसपी त्रिभुवन सिंह के साथ पुलिस लाइन में बने जीडब्ल्यू कोल के स्मारक पर पहुंच कर पुष्प अर्पित किए। उन्होंने बताया कि जीडब्ल्यू कोल उनके नाना थे। 31 साल की आयु में उन्होंने आईपीएस की परीक्षा टॉप की थी। उनकी पहली तैनाती फर्रुखाबाद जिले में हुई थी। 

माइकल क्लेव ने बताया कि उनकी मां सूजन ने इसकी जानकारी दी थी…

एक दिन सुबह तीन बजे मोहम्मदाबाद के पिपरगांव में एक मकान में कुछ लोगों के होने की जानकारी मिली। जीडब्ल्यू, कोल दो सिपाही और सब इंस्पेक्टर जयंती प्रसाद को साथ लेकर वहां गए। मुठभेड़ में गोली चलने पर एसपी जीडब्ल्यू कोल और सब इंस्पेक्टर जयंती प्रसाद की मौत हो गई थी। अंग्रेजी शासन में पुलिस लाइन में एसपी जीडब्ल्यू कोल की स्मारक बनवाई गई थी। 

माइकल क्लेव ने बताया कि उनकी मां सूजन ने इसकी जानकारी दी थी। इसी कारण वह नाना की स्मारक और वह स्थान जहां पर मौत हुई थी, देखने आए। उन्होंने बताया कि वह पांच भाई और एक बहन हैं। बहन इंग्लैंड में टीचर हैं। एक भाई केन्या में है। वह 15 दिन के लिए भारत भ्रमण पर आए हैं। मंगलवार को वह इंग्लैंड वापस चले जाएंगे। इस दौरान सीओ सिटी रामलखन सरोज, सीओ अमृतपुर सुरेंद्र तिवारी व अन्य पुलिस कर्मी मौजूद रहे। पुलिस लाइन में रिक्रूटों की परेड भी देखी।

Back to top button