क्राइम

नाइजीरिया के स्कूल पर हमले के बाद 300 लड़कियां अगवा, जानिए कौन है आतंकी संगठन बोको हराम?

नाइजीरिया में हथियारबंद आतंकियों ने शुक्रवार को जाम्फ्रा के एक सरकारी स्कूल पर हमला कर 300 से ज्यादा लड़कियों का अपहरण कर लिया। इस्लामिक शिक्षा न दिए जाने से नाराज आतंकी संगठन बोको हराम के आतंकी यहां लगातार स्कूलों पर हमला कर रहे हैं। कुछ परिजन अपनी बच्चियों की तलाश आसपास के जंगलों में कर रहे हैं।

उधर, सेना ने भी तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। जाम्फ्रा के राज्य सूचना आयुक्त सुलेमान तानू अनका ने बताया कि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि हथियारबंद आतंकियों ने कितनी लड़कियों को अगवा किया है। हालांकि स्थानीय मीडिया में दावा किया जा रहा है कि इनकी संख्या 300 से ज्यादा है। इनमें अधिकतर लड़कियां 12 से 15 साल की हैं।

क्लास चल रही थी, तभी स्कूल में घुसे आतंकी और बच्चियों को ले गए
घटना जाम्फ्रा के गवर्नमेंट गर्ल्स सेकेंडरी स्कूल की है। यहां पढ़ाने वाले एक टीचर ने बताया कि बच्चे क्लास में पढ़ाई कर रहे थे। इसी दौरान दर्जनों आतंकी हथियार के साथ स्कूल में आए और बच्चियों को उठाकर ले गए।

हमलावर बड़ी संख्या में सेना की ड्रेस में गाड़ियों से पहुंचे थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस स्कूल में 421 छात्राएं पढ़ती हैं, जिनमें से 55 सुरक्षित हैं।

स्कूलों में अब तक की तीन बड़ी आतंकी घटनाएं

  • 12 फरवरी 2021 को नाइजर स्टेट के गवर्नमेंट साइंस कॉलेज कगारा में बोको हराम के आतंकियों ने हमला कर 42 लोगों का अपहरण कर लिया था। इसमें 27 स्टूडेंट्स भी शामिल थे। अभी तक इन लोगों की तलाश चल रही है।
  • दिसंबर 2020 में बोको हराम संगठन के आतंकियों ने कत्सिना राज्य के एक बोर्डिंग स्कूल से करीब 344 बच्चों का अपहरण किया था। हालांकि सेना की कार्रवाई के बाद इन्हें सुरक्षित छुड़ा लिया गया था।
  • अप्रैल 2014 में बोको हराम के आतंकी बोर्नो स्टेट के चिबूक में स्थित सेकेंडरी स्कूल से 276 बच्चियों को उठा ले गए थे। इनमें से अभी भी 100 से ज्यादा लड़कियाें की कोई खबर नहीं है।

कौन है आतंकी संगठन बोको हराम?
​​​​​बोको हराम की स्थापना 2002 में मौलवी मोहम्मद यूसुफ ने नाइजीरिया समेत दुनियाभर के देशों में शरिया कानून स्थापित करने के लिए की थी। 2009 से इस संगठन का मुखिया अबुबकर शेकाऊ है। यह संगठन नाइजीरिया के अलावा चाड, नाइजर और उत्तरी कैमरून में भी सक्रिय है।

मोटरसाइकिल और गाड़ियों पर सवार होकर पहुंचे थे आतंकी
गवर्नमेंट गर्ल्स सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाने वाले एक टीचर ने बताया कि हमलावर मोटरसाइकिल और गाड़ियों पर सवार होकर पहुंचे थे। उन्होंने सरकारी सेना की तरह कपड़े पहन रखे थे। स्कूल में आने के बाद इन हमलावरों ने स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियों को जबरदस्ती गाड़ियों में बैठाया और यहां से लेकर निकल गए। रिपोर्ट के अनुसार इस स्कूल में 421 छात्राएं पढ़ती हैं, जिनमें से 55 सुरक्षित हैं।

स्कूल पहुंचे परिजनों ने किया हंगामा
बंदूकधारियों के हमले की सूचना मिलने के बाद बड़ी संख्या में छात्राओं के परिजन स्कूल पहुंचे। उन्होंने न केवल सरकार और सुरक्षा एजेंसियों पर गुस्सा जताया, बल्कि अपनी बच्चियों के सुरक्षित रिहाई की मांग भी भी। कुछ लड़कियों के परिजन अपनी बच्चियों की तलाश में आसपास के जंगलों में खोजबीन भी कर रहे हैं। उधर, सेना ने भी इन लड़कियों को बचाने के लिए अभियान शुरू कर दिया है।

पहले भी स्कूली बच्चों को अगवा कर चुके हैं आतंकी

नाइजीरिया और आसपास के कई देशों में इस्लामी आतंकवादी संगठन बोको हराम का प्रभाव माना जाता है। इस आतंकी संगठन ने पहले भी कई हमलों को अंजाम दिया है। पिछले साल दिसंबर में बोको हराम के आतंकियों ने नाइजीरिया के कत्सिना राज्य के एक बोर्डिंग स्कूल पर हमला कर वहां से लगभग 300 बच्चों का अपहरण कर लिया था। जिन्हें बाद में सेना की कार्रवाई के बाद सुरक्षित छुड़ा लिया गया था।

स्थानीय लोगों में बोको हराम का खौफ
बोको हराम का खौफ नाइजीरिया में इस कदर है कि इसके आतंकियों के खिलाफ कोई गवाही भी देने को तैयार नहीं होता है। इस संगठन की स्थापना ही नाइजीरिया में शरिया कानून को मानने वाली सरकार को स्थापित करने को लेकर किया गया था। इस आतंकी संगठन ने नाइजीरिया में न केवल बड़ी संख्या में लोगो का कत्लेआम किया है, बल्कि सुरक्षाबलों पर भी कई जानलेवा हमले किए हैं। इस क्षेत्र में लोगों का अपहरण, हत्या और सैन्य ठिकानों पर बोको हराम के आतंकियों का हमला अब भी वैसे ही जारी है।

Back to top button