धर्म

नवरात्रि: अष्टमी और नवमी पर करिए जानवरों वाले ये उपाय, बरसने लगेगा धन

देश में नवरात्रि का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा हैं. लोग हर तरह से माता रानी को प्रसन्न करने में लगे हुए हैं. नवरात्रि के ये नौ दिन काफी शुभ माने जाते हैं. यही वजह हैं कि इस दिन लोग कई तरह के अलग अलग उपाय भी करते हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए हम भी आप लोगो को एक ख़ास उपाय बताने जा रहे हैं जिसे आपको इस नवरात्रि की अष्टमी और नवमी को जरूर करना चाहिए. दरअसल इन दो दिनों के अन्दर आपको कुछ ख़ास जानवरों को कुछ विशेष चीजें खिलाना होगी. ऐसा करने से आपके जीवन में चल रही परेशानियाँ दूर होगी और आपका भाग्य चमक जाएगा.

काला कुत्ता: नवरात्रि में काले कुत्ते को दूध रोटी खिलाने से आपके शत्रुओं की सभी चाले फ़ैल हो जाती हैं. ऐसा करने से कोई भी व्यक्ति आपके कामो में टांग नहीं अड़ा पाएगा. इतना ही नहीं यह उपाय आपको लोगो की बुरी नज़र और हाय से भी बचाएगा. इसे आजमाने के बाद आपके सभी काम बिना किसी रुकावट के होने लगेंगे.

गाय: गाय को हिंदू धर्म में एक पवित्र जानवर का दर्जा दिया हुआ हैं. ऐसा कहा जाता हैं कि गाय के अंदर 33 देवी देवताओं का वास होता हैं. गौसेवा को हमारे यहाँ काफी अहमियत दी जाती हैं. गाय को हम माता कहकर संबोधित करते हैं. इसलिए नवरात्रि में गाय माता को पूरी, सब्जी और खीर खिलाना अत्यधिक शुभ माना जाता हैं. ऐसा करने से आपके ऊपर चल रहे ग्रहों के दुष्प्रभाव भी समाप्त हो जाते हैं. साथ ही आपकी किस्मत के तारे प्रबल हो जाते हैं.

बिल्ली: नवरात्रि में बिल्ली को मीठा दूध पिलाना भी शुभ होता हैं. बिल्ली को दूध पिलाने से बुरी और नकारात्मक शक्तियां आपके पास नहीं आती हैं. इस तरह ये आपके काम में कोई बाधा नहीं डालती हैं और आपका काम भी आसानी से संपन्न हो जाता हैं. इस उपाय से रात में बुरे सपने आना और घर में किसी का बार बार बीमार पड़ना भी रूक जाता हैं.

कौआ: नवरात्रि में कौए को चावल के दाने खिलाना शुभ माना जाता हैं. ऐसा करने से आपकी सेहत अच्छी रहती हैं और उम्र लम्बी होती हैं. ये उपाय आपको किसी भी प्रकार की अनहोनी से भी बचाता हैं. इसलिए इस उपाय को नवरात्रि के दिनों में जरूर करना चाहिए. आप चाहें तो चावल के साथ दाल के दाने भी डाल सकते हैं.

आप ये सारे उपाय भी कर सकते हैं और इसमें से सिर्फ कोई एक भी कर सकते हैं. लेकिन इस बात का ध्यान रखे कि ये सभी उपाय आपको नवरात्रि की अष्टमी और नवमी पर ही करने हैं. इन्हें करने से पहले आपका नहाना जरूरी हैं

Back to top button