उत्तर प्रदेश

नए साल पर नेपाल टूर की योजना पर लग रहा फिर विराम, वजह है सिर्फ कोरोना

रूपईडीहा/बहराइच । कोरोना संक्रमण के कारण भारत-नेपाल सीमा सील जैसी स्थिति मार्च 2020 से अभी तक है। पैदल अगमन के अलावा सवारी साधन को चलने की अनुमति नहीं जिसके चलते इस बार भी लोग नए साल का जश्न मनाने नेपाल नहीं जा रहे है । नए साल पर भारत के विभिन्न जिलों से के लोग नेपालगंज, सुरखेत, कुल्लू मनाली, पोखरा, काठमांडू में नेपाली नए साल मनाया जाया करते थे लेकिन इस बार भी क्रोना वैश्विक महामारी ने लोगों के अरमानों पर पानी फेर दिया है ।

भारतीय टूरिस्ट नेपाली नए साल पर नहीं जाने की वजह से होटलों की चकाचौंध कम हो जाती है इस बार फिर से नेपाल के होटलों में सन्नाटा देखने को मिलेगा । इसके अलावा कोई केदारनाथ की यात्रा करेगा तो कोई उज्जैन महाकाल के दर्शन कर नए साल की खुशियां मनाने की तैयारी में था । हमेशा से सवारी साधन का प्रयोग करते हुए भारतीय पर्यटक नेपाल जाया करते हैं लेकिन इस बार कोरोना की वजह से लोग स्वयं के वाहन से आना जाना ज्यादा पसंद कर रहे हैं लेकिन सवारी साधन ले जाना वर्जित है ऐसे में लोगों को मायूसी हाथ लग रही है ।

भारत-नेपाल की सीमा पर सवारी साधनों के नहीं चलने से सिर्फ जरूरतमंद ही सीमा पर आवागमन कर रहे हैं ।लोगों को उम्मीद थी कि नए साल में सीमा पूरी तरह से खुल जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों की पहली पसंद नेपाल हुआ करता है लेकिन इस बार भी सीमा क्रोना वैश्विक महामारी के कारण भारतीय लोग चाह कर भी नेपाली नए साल पर नहीं जा पा रहे हैं। ऐसे में नेपाल पर्यटन को इस बार फिर से नुकसान उठाना पड़ेगा ।

Back to top button