क्राइम

दहेज में नहीं मिली बाइक तो हैवान बना इरशाद, पत्नी को पहले प्रेस से जलाया फिर…

दहेज़ की आग में ना जाने कितनी ही महिलाएं अभी तक जली है. लालच की आग में जाने कितनी ही महिलाओं की ज़िन्दगी स्वाहा हो गई. और ऐसी ही एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है शामली से, कहने को तो कई मुस्लिम धर्म गुरु कहते हैं कि दहेज़ लेना हराम है. लेकिन क्या इस बात का फर्क पड़ा है. ये सवाल इसलिए क्यूंकि इरशाद ने जो किया वो चौंकाने वाला है. जी हाँ इरशाद नाम का शख्स दहेज़ के लालच में भूल गया की वो क्या कर रहा है. जिसके साथ उसने जीने मरने की कसमें खाई थी. उसे ही गर्म प्रेस से जलाने लग गया जी हाँ गर्म प्रेस से. चौंकिए मत पूरी खबर बताते हैं.

उत्तर प्रदेश के शामली जिले में दहेज नहीं मिलने पर एक पति की हैवान बन गया। आरोप है कि पति ने अपनी पत्नी की हत्या करने की कोशिश की। आरोपी ने पहले तो पीड़िता को फांसी पर लटकाकर मारने का प्रयास किया, लेकिन नाकाम होने पर पीड़िता को गर्म प्रेस से जलाया. इससे पीड़िता गंभीर रूप से झुलस गई। सूचना पर पहुंचे परिजनों ने पीड़िता को कांधला सीएचसी में भर्ती कराया है और पूरी घटना पुलिस की बता दी है.

मला कांधला थाना क्षेत्र के गांव इस्सोपुरटील का है. जहां इरशाद पुत्र उमरदीन की शादी शबनम पुत्री आशिक अली निवासी जमालपुर थाना झिंझाना जिला शामली से हुई थी. शादी को करीब तीन साल हो चुके हैं. इसी बीच पीड़िता शबनम ने एक बच्ची को भी जन्म दिया. बताया जा रहा है पीड़िता शबनम की शादी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम के अंतर्गत हुई थी.

शबनम के पिता मेहनत मजदूरी का काम करते हैं और वो शादी में दहेज दे पाने के योग्य नहीं थे. आरोपी पति इरशाद के परिजनों की मर्जी से ये शादी कराई गई थी. लेकिन जैसे-जैसे शादी का समय बीतता गया, वैसे-वैसे आरोपी इरशाद की हैवानियत बढ़ती गई. इरशाद आए दिन पीड़िता पर जुल्म करता रहा और उसको यातनाएं देता रहा. शबनम लोकलाज के कारण सब सहन करती रही और मायके वालों से इस बारे में जिक्र नहीं किया.

Back to top button