ख़बरराजनीति

परिवार के तीन सदस्यों को खोने वाला युवक भी चुनावी मैदान में ठोकेगा ताल, पत्नी और भाभी के साथ किया नामांकन

मेरठ
यूपी में तीसरे चरण के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान मेरठ जिले का वार्ड-15 सुर्खियों में है। दरअसल, इस बार भी इस वार्ड से जहां बड़े-बड़े कुख्यातों के परिवार के लोग मैदान में उतरे हैं तो वहीं दबंगों के आतंक का शिकार बनकर अपने परिवार के तीन सदस्यों को खोने वाले एक युवक ने भी प्रत्याशी के रूप में ताल ठोंकते हुए इन कुख्यातों को चुनौती दी है।

इस युवक ने जिला पंचायत सदस्य पद के लिए नामांकन किया ही है। वहीं, अपनी पत्नी और भाभी को भी चुनाव मैदान में उतारा है। मंगलवार को पुलिस की कड़ी सुरक्षा में कलक्ट्रेट में नामांकन करने पहुंचे मीतन ने अधिकारियों से अपनी सुरक्षा बढ़ाए जाने की मांग की।

बताते चलें जिले के सरूरपुर थाना क्षेत्र के रजापुर गांव में रहने वाले चेतन जाटव की वर्ष 2016 में क्षेत्र के दबंग सुमित जाट और अमित जाट ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। दो साल बाद इन्हीं दबंगों ने अपने बेटे की हत्या की गवाह चेतन की मां सावित्री को भी सरेआम मौत के घाट उतार दिया था। इस हत्याकांड के आठ दिन बाद ही बेखौफ आरोपियों ने चेतन के जीजा बबलू का भी कत्ल कर डाला था। जिसके बाद रजापुर गांव के रहने वाले मृतक चेतन के भाई मीतन का परिवार लगातार पुलिस की सुरक्षा में है। हालांकि, पुलिस ट्रिपल मर्डर के मुख्य आरोपी सुमित जाट का एनकाउंटर कर चुकी है। वहीं, अमित सहित अन्य आरोपी जेल में हैं, लेकिन इसके बावजूद मीतन की जान पर बने खतरे को देखते हुए पुलिस उसकी सुरक्षा में मुस्तैद है।

पत्नी और भाभी के साथ किया नामांकन

मंगलवार को कलक्ट्रेट में पंचायत चुनाव की नामांकन प्रक्रिया के दौरान अधिकारी उस समय हैरान रह गए जब मीतन अपनी पत्नी और भाभी के साथ वार्ड-15 से जिला पंचायत सदस्य के लिए नामांकन करने पहुंचे। खास बात यह रही कि इसी सीट से जहां मीतन ने अपना नामांकन किया तो वहीं, पत्नी पूजा रति और भाभी नीतिका ने भी इसी सीट से नामांकन किया।

मीतन ने बताया कि यदि किसी कारणवश परिवार के दो सदस्यों के नामांकन निरस्त भी हो गए तो एक सदस्य चुनाव लड़ सकेगा। नामांकन के दौरान भी मीतन और उसका पूरा ‘कुनबा’ पुलिस की कड़ी सुरक्षा में रहे।

नामांकन के बाद मीतन ने दावा किया कि वह वर्षों से क्षेत्र में चले आ रहे दबंगों के वर्चस्व को समाप्त करने के लिए मैदान में उतरे हैं। मीतन का कहना है कि यदि वह चुनाव जीतते हैं तो गांव में छात्राओं के लिए स्कूल, नाली-खड़ंजा और सड़कों सहित किसी विकास कार्य में कोई कमी नहीं छोड़ेंगे।

दांव पर लगी कुख्यातों की प्रतिष्ठा
बताते चलें वार्ड 15 की इस सीट से कुख्यात योगेश भदौड़ा की पत्नी सुमन भदौड़ा निवर्तमान पंचायत सदस्य है। इस बार भी सुमन मैदान में उतरी है। मंगलवार को ही सुमन ने भी कलक्ट्रेट में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया है। इसी के साथ इसी वार्ड से इस बार सुशील फौजी की पत्नी सुमन, हरेंद्र मास्टर की पत्नी मोनिका और सुशील रोहटा की पत्नी सुमन भी मैदान में हैं। जिसके चलते इस बार वार्ड 15 के चुनाव में कई कुख्यातों और दबंगों की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है।

Back to top button