ख़बरराजनीति

तेजस्वी और लालू की एक फोटो ने RJD में भरा जोश, वायरल कर रहे हैं समर्थक

लालू प्रसाद यादव 9 मई को वर्चुअल मीटिंग में पार्टी के विधायकों-नेताओं के साथ शामिल हुए थे। उस समय उनका ऑक्सीजन लेवल गिर गया था और आवाज भी भारी हो चली थी। अब उनके जन्मदिन पर समर्थकों ने उन्हें केक काटते हुए देखा है। इस सब के बीच लालू प्रसाद की एक तस्वीर तेजस्वी यादव के साथ सामने आई है। इसमें दोनों पिता-पुत्र एक-दूसरे को देख मुस्करा रहे हैं। यह तस्वीर राजद समर्थकों में उत्साह भरने का काम कर रही है। लोग एक-दूसरे को शेयर भी कर रहे हैं।

लालू मुस्कुराए तो गाल भी चमक उठा

लालू प्रसाद के समर्थकों के बीच लालू प्रसाद की मुस्कुराहट बहुत असरदार है। इस फोटो को देख लालू के वे दिन सभी को याद आ गए जब लालू की स्माइल का कोई जोड़ नहीं था। लालू जब हेमामालिनी के गाल की चर्चा करते थे तो उनके गाल गाल और ज्यादा गुलाबी हो उठते थे। जन्म दिन वाली फोटो में लालू प्रसाद का चेहरा पहले जैसा नहीं लग रहा, लेकिन तेजस्वी की साथ वाली तस्वीर में लालू की स्माइल ऐसी है कि वह तस्वीर उनके समर्थकों को बीच खूब घूम रही है। सत्ता पक्ष के असंतुष्टों में भी यह तस्वीर संजीवनी बनी हुई है।

डॉक्टर तय करेंगे लालू जी पटना कब आएंगेः तेजस्वी
भास्कर ने पहले भी बताया कि लालू प्रसाद पटना आना चाहते हैं लेकिन वे तभी पटना आएंगे जब डॉक्टरों की हरी झंडी मिलेगी। तेजस्वी यादव ने यह स्पष्ट कर दिया है कि लालू प्रसाद की किडनी पूरी तरह काम नहीं कर रही इसलिए उन्हें लगातार डॉक्टरों की निगरानी में ही रहना है, रही बात पटना आने की तो डॉक्टर की एडवाइस पर ही यह तय होगा कि वे पटना कब आएंगे।

जितना सताओगे ताकत उतनी ही बढ़ेगीः युवा RJD

लालू यादव की मुस्कुराहट जब तेजस्वी के साथ हो तो बिहार की सत्ता में भी हलचल होने लगती है। यह तस्वीर जन्म दिन के दो- तीन दिन पहले की बतायी गई है। युवा RJD के प्रवक्ता अरूण यादव कहते हैं कि लालू यादव का कोई जोड़ नहीं है, लालू है तो मुमकिन है, चारा में फंसा देने से लालू का समाज को योगदान रत्ती भर भी कम नहीं होता, बल्कि सत्ता पक्ष वाले लालू को जितना सताएंगे लालू की ताकत उतनी ज्यादा बढ़ती जाएगी। यह विधान सभा चुनाव में दिख गया ना !

बिहार का राजनीति इतिहास इस तरह लिखा जाएगा

JDU के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि भविष्य में बिहार की राजनीति और समाज का इतिहास जरूर लिखा जाएगा, निश्चित रुप से उसमें एक अध्याय होगा। उसका शीर्षक होगा- ‘ लालू के पहले का बिहार और लालू के बाद का बिहार ‘।

सभी यादव विधायकों पर नजर

लालू प्रसाद की नजर सिर्फ जीतनराम मांझी या मुकेश सहनी पर ही नहीं है बल्कि सभी पार्टियों के यादव और मुस्लिम नेताओं पर भी है। शाहनवाज हुसैन जैसे नेता अपवाद हो सकते हैं। JDU में पांच यादव विधायक हैं, लेकिन कोई डोल नहीं रहे हैं। लालू प्रसाद इस बात को लेकर खुश हैं उन्होंने तेजस्वी के रुप में बिहार को नया नेता दे दिया है जिसकी उम्र भी कम है और ऊर्जा भी भरपूर है। उसमें लालू सामाजिक न्याय को आगे बढ़ाने की ताकत भी देखते हैं। लालू प्रसाद को अपने सभी बच्चों में वही सबसे काबिल लगे। लालू प्रसाद और तेजस्वी के बीच स्माइल वाली फोटो क्या असर दिखाती है इसका इंतजार लालू समर्थकों को है।

Back to top button