उत्तर प्रदेशख़बर

तिहाड़ पहुंचा ‘पिस्टल’ पांडे तो मौज लिए साथी कैदी, खूब याद दिलाई ‘क्रांति’

गुलाबी पतलून वाला पिस्टल पांडे याने पूर्व बसपा सांसद का बेटा आशीष पांडे दिल्ली की तिहाड़ जेल में है. उसे दिल्‍ली के हयात होटल में 13-14 अक्टूबर की रात पिस्टल से लड़की को धमकाने के मामले में पटियाला कोर्ट ने जेल भेजा है. खबर है कि आशीष को तिहाड़ की जेल नंबर-4 में रखा गया है. इस बैरक में 70 अन्‍य विचाराधीन कैदी हैं जिनपर हत्या जैसी संगीन वारदातों का आरोप है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आशीष जब तिहाड़ पहुंचा तो कैदियों ने उसे देखते ही पहचान लिया और कहने लगे ‘भाई तू वही है न जो विडियो में पिस्टल निकालकर लखनऊ से हूं और क्रांति लिखने की बात कह रहा था.

ये खबर टाइम्‍स ऑफ इंडिया में छपी है. इसके मुताबिक लखनऊ के रहने वाले आशीष को जेल नंबर-4 के मुलाहजा वॉर्ड में ही रखा गया है. इस वॉर्ड में पहली बार अपराध करने वाले विचाराधीन कैदियों को रखा जाता है. हालांकि, पहले आशीष को सुरक्षा की दृष्टि से अलग रखे जाने की योजना थी. लेकिन फिर यही तय किया गया कि इसे वीआईपी ट्रीटमेंट क्यों.

जेल सूत्रों के मुताबिक आशीष जेल के कायदे-कानून का पालन कर रहा है. जेल में वह अधिकारियों को बताता है कि उसकी तो कोई गलती ही नहीं थी. बस उसने अपनी हिफाजत के लिए पिस्टल निकाली थी और वह भी उसने उस लड़के-लड़की के ऊपर तानना तो दूर हवा तक में भी नहीं लहराई थी.

आशीष बताता है कि वह उसकी मेड इन इजरायल लाइसेंसी पिस्टल थी लेकिन उसका विडियो सामने आने के बाद उसे ऐसे पेश किया गया, जैसे कि वह कोई बहुत बड़ा डॉन या कोई आतंकवादी हो जबकि इस मामले की शुरुआत कहां से हुई, उसकी तह तक जाने की किसी ने कोशिश ही नहीं की.

Back to top button