सेहत

डिओडरेंट से नहाने वाले जरूर पढ़ें ये आर्टिकल, जानकारी बहुत जरूरी है

एक शोध में ये बात सामने आई है कि घर में बहुत अधिक खुशबूदार चीजों का इस्तेमाल भयंकर प्रदूषण जितना ही खतरनाक हो सकता है । जितना एक गाड़ी प्रदूषण फैलाती है उतना ही ऐसी खुशबू के कारण भी हो सकता है । एक तरफ साबुन और परफ्यूम हमें सुगंध देते हैं और हमारे शरीर में भीनी खुशबू देते हैं। लेकिन दूसरी ही तरफ ये हवा को भयंकर तरीके से प्रदूषित करते हैं। जी हां हाल ही में एकज बड़ा शोध किया गया है। इस शोध में बताया गया है कि आज के वक्त में जितना कार और ट्रक से निकला धुआं वातावरण को प्रदूषित करता है, उतना ही प्रदूषण साबुन और परफ्यूम से भी फैलता है।

चौंकाने वाली रिसर्च
ये शोध कुछ समय पहले किया गया है । इस स्टडी को एक विदेशी साइंस पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि ये आपको गंभीर रूप से बीमार कर सकते हैं। इतना जान लीजिए कि ये आपकी सांसों में जहर घोल सकते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि ये प्रदूषण और भी ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है।

कैमिकल्‍स का होता है प्रयोग
शोधकर्ताओं ने कहा कि परफ्यूम्स, पेंट्स और बाकी कन्ज्यूमर प्रोडक्ट्स में पेट्रोलियम आधारित केमिकल्स का इस्तेमाल होता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि ये वोलाटाइल ऑर्गैनिक कंपाउंड्स छोड़ते हैं। वोलाटाइल ऑर्गैनिक कंपाउंड्स हवा को प्रदूषित करता है। इसके साथ ही शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे स्मॉग का खतरा और भी ज्यादा बढ़ता है।

दमा, कैंसर जैसी बीमारियां
शोधकर्ताओं का कहना है कि हवा में मौजूद और भी कणों के साथ मिलकर वोलाटाइल ऑर्गैनिक कंपाउंड्स द्वारा स्मॉग का निर्माण किया जाता है। शोध में बताया गया है कि इस तरह से दमा की समस्या पैदा हो सकती है। इसके अलावा इससे फेफड़े भी स्थायी रूप से संक्रमित हो सकते हैं। इस वोलाटाइल ऑर्गैनिक कंपाउंड्स में एक खास कण होता है।

खतरनाक तत्वों से लैस
शोध में बताया गया है कि वोलाटाइल ऑर्गैनिक कंपाउंड्स में पीएम 2.5 नाम का कण भी होता है। इस एक कण की वजह से हार्ट अटैक, आघात और फेफड़े का कैंसर तक हो सकता है। यानी आपके घर में मौजूद ये सभी चीजें आपके लिए आगे आने वाले वक्त में बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकते हैं।

Back to top button