राजनीति

‘टूटे से फिर ना जुटे, जुटे गांठ परि जाय’, जाने आखिर क्या हैं तेजप्रताप के इस ट्वीट का मतलब

नई दिल्ली: राजद नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव पिछले कुछ समय से परिवार से नाराज चल रहे हैं. अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक लेने का ऐलान करने के बाद से ही तेजप्रताप पटना से दूर यूपी के वृंदावन में मंदिर-मंदिर भटक  रहे हैं और भक्ति में लीन नज़र आ रहे हैं. तेज प्रताप और ऐश्वर्या के परिवार की तरफ से लगातार प्रयास किए जा रहे हैं कि वो अपनी पत्नी को तलाक देने की जिद छोड़  दें लेकिन तेजप्रताप सुनने को ही राजी नहीं हैं.

इसी बीच तेजप्रताप ने ट्विटर पर रहीम का एक दोहा शेयर किया है, गुरुवार की रात 12.05 बजे उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा कि, “… टूटे से फिर ना जुटे, जुटे गांठ परि जाय”. इस दोहे के जरिए तेजप्रताप ने अपने मन की बात समझाने कोशिश कर रहे है. दरअसल, रहीम का जो पूरा दोहा है वो ये है कि “रहिमन धागा प्रेम का, मत तोड़ो चटकाय.. टूटे से फिर ना जुड़े, जुड़े गांठ परि जाय”,  इस दोहे का मतलब होता है प्रेम के धागे को कभी तोड़ना नहीं चाहिए क्योंकि यदि यह धागा एक बार टूट जाता है, तो फिर दोबारा नहीं जुड़ता और यदि जुड़ता भी है तो इसमें गांठ पड़ ही जाती है.

तेजप्रताप के इस ट्वीट से साफ दिखाई दे रहा है कि तेजप्रताप ऐश्वर्या के साथ रिश्ते को दूसरा मौका देने के मूड में नहीं हैं. दोहे के अनुसार तेजप्राप्तप कहना चाहते हैं कि अगर वो अब विवाद सुलझा भी लेते हैं तो आगे जाकर भी उनके और ऐश्वर्या के रिश्ते कभी भी मधुर नहीं रहेंगे, उसमे कड़वाहट का जहर घुल ही जाएगा. 

Back to top button