देश

जैसे ही खत्म हुआ मोदी का कोरोना-वैक्सीन टूर, आ गई बहुत बड़ी गुड न्यूज

नई दिल्ली
दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ आदर पूनावाला ने शनिवार को कहा कि कोरोना वैक्सीन में देरी की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविशील्ड के ट्रायल के नतीजे बहुत अच्छे रहे हैं। पूनावाला ने यह भी बताया कि कोविशील्ड के इमर्जेंसी में इस्तेमाल की इजाजत के लिए जल्द ही अप्लाई किया जाएगा। इसका साफ मतलब है कि वैक्सीन निर्माण अडवांस्ड स्टेज में है। पूनावाला ने कहा कि हम कोविशील्ड के इमर्जेंसी में इस्तेमाल के लिए इजाजत की खातिर अगले 2 हफ्तों में आवेदन करने की प्रक्रिया में हैं। सीरम इंस्टिट्यूट के प्रमुख ने बताया कि कोविशील्ड के ट्रायल के नतीजे बहुत ही अच्छे रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सीरम इंस्टिट्यूट के दौरे पर पूनावाला ने कहा कि पीएम के साथ वैक्सीन को लेकर विस्तार से चर्चा हुई। उन्होंने बताया कि सीरम इंस्टिट्यूट ने पुणे में सबसे बड़ा संयंत्र बनाया है और मंडरी में नया कैंपस बनाया है। उन्होंने कहा कि पीएम को अब वैक्सीन और वैक्सीन प्रोडक्शन के बारे में बहुत जानकारी है। उन्होंने कहा कि हम हैरान थे कि उन्हें पहले से ही बहुत कुछ पता था। बहुत कम चीजों के बारे में उन्हें विस्तार से बताना पड़ा।

आदर पूनावाला ने कहा कि वैक्सीन की वितरण शुरुआत में भारत में ही किया जाएगा उसके बाद COVAX देशों में वितरण के बारे में सोचा जाएगा जो मुख्य तौर पर अफ्रीका में हैं। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन और यूरोप में वैक्सीन के वितरण का काम एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफर्ड कर रहे हैं। सीरम इंस्टिट्यूट के चीफ ने कहा कि उनकी प्राथमिकता में भारत और COVAX देश हैं।

पूनावाला ने बताया कि अभी तक उन्हें भारत सरकार की तरफ से लिखित में कुछ भी नहीं मिला है कि हमसे कितनी खुराक खरीदी जाएगी लेकिन ऐसे संकेत है कि जुलाई 2021 तक 30 से 40 करोड़ डोज खरीदी जा सकती है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के टीके के विकास कार्य की समीक्षा के लिए शनिवार को अहमदाबाद, हैदराबाद और पुणे का दौरा किया। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने कहा कि दिन भर के दौरे का उद्देश्य नागरिकों के टीकाकरण में भारत के प्रयासों में आने वाली चुनौतियों, तैयारियों और रोडमैप जैसे पहलुओं की जानकारी हासिल करना था।

मोदी ने अपने दौरे की शुरुआत अहमदाबाद के नजदीक दवा कंपनी जाइडस कैडिला के संयंत्र के दौरे के साथ की। उसके बाद वह हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक के संयंत्र पहुंचे और आखिर में पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया का दौरा किया।

Back to top button