धर्म

जीवन में उन्नति पाने के लिए करे ये उपाय, बरसेगा धन, नौकरी में होगा प्रमोशन

नौकरी में उन्नति प्राप्त करना सभी का उद्देश्य होता है किन्तु सबको मिलती नहीं है। उच्च अधिकारी से अच्छे सम्बन्ध न बन पाना, कार्य क्षेत्र में षड़यंत्र का शिकार बन जाना, आपके किये काम का श्रेय किसी और को मिल जाना,पद्दोनति के समय किसी अप्रिय घटना का घट जाना इत्यादि कुछ ऐसे विषय हैं, जिनका निवारण ज्योतिष के माध्यम से किया जा सकता है और उन्नति की ओर अग्रसर हुआ जा सकता है।

ज्योतिष के अनुसार आजीविका/नौकरी मिलने में शनि की भूमिका सर्वोच्च है और बिना शनि की कृपा के किसी को भी नौकरी प्राप्ति नहीं होती। ये बात याद रहे की नौकरी में उन्नति तभी हो सकती है, जब किसी के पास नौकरी होगी। कालपुरुष की कुंडली में शनि कर्म स्थान के और लाभ स्थान के स्वामी हैं, इसलिए जन्म कुंडली में शनि का विश्लेषण किये बिना किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचना अधूरा होगा।

साथ में इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है कि ज्योतिष में आठ और ग्रह भी हैं, जिनकी भूमिका को कम महत्व देना गलत होगा। 9 ग्रहों में से कोई भी ग्रह कुंडली में दसवें घर (कर्म स्थान) का स्वामी हो सकता है, इसलिए दसवें घर के स्वामी का विश्लेषण शनि के साथ करना आवश्यक होता है।   

निम्नलिखित कुछ ऐसे उपाय हैं, जो सभी के लिए मान्य हैं और इन्हें करने के बाद उन्नति के मार्ग अवश्य प्रशस्त होंगे।

— प्रातःकाल सूर्य को अर्घ्य देने से और सूर्याष्टक का पाठ करने से सकारात्मक सोच, शारीरिक बल और ज्ञान की वृद्धि होती है और शत्रु नाश होता है।

— सूर्य गायत्री का जाप करने से भी उच्चाधिकारी वर्ग आपके पक्ष में आते हैं।

— पीपल की जड़ में जल और सरसों का तेल मिलकर अर्पण करने से शनि की शांति होती है और बृहस्पति की कृपा से पद्दोनति के मार्ग खुलते हैं।

— शनिवार के दिन देसी घी को दीपक जगा कर “लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ करने से व्यावसायिक उन्नति की बाधाएं दूर होती हैं।

— रविवार और बुधवार वाले दिन श्री विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करने से भी उन्नति प्राप्त होती है।

—  रविवार के दिन लाल कपड़े में गेहूं और गुड़ बांधकर दान करने से भी व्यावसायिक उन्नति प्राप्त होती है।

—  कालभैरवाष्टकं का रविवार के दिन पाठ करने से शनि, राहु और केतु जनित कष्टों से मुक्ति मिलती है और उन्नति के मार्ग खुलते हैं।

—  तुलसी को प्रतिदिन जल अर्पण करने से और देसी घी का दीपक जगाने से जीवन में स्थिरता और उन्नति प्राप्त होती है।

—  सोमवार के दिन शिवलिंग पर दूध अर्पित करते हुए “ॐ सोमेश्वराय नमः” का जाप करने से व्यावसायिक उन्नति प्राप्त होती है।

—  शनिवार के दिन शनिदेव को सरसों के तेल और काला तिल अर्पण करने से और दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करने से व्यावसायिक और आर्थिक समस्याओं को शमन होता है।

—  श्वेतार्क गणपति की स्थापना करके नित्य पूजा और “गणपति अथर्वशीर्ष” का पाठ करने से उन्नति में आने वाली समस्याओं से मुक्ति मिलती है।

Back to top button