देश

जम्मू: होल्डिंग सेंटर भेजे गए 155 रोहिंग्या, जाँच में जुटी पुलिस

रोहिंग्या मुसलमान पूरी दुनिया में चर्चा केंद्र बने रहते हैं. अवैध तरीके से रह रहे रोहिंग्या मुसलमान हिंदुस्तान के लिए बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं. पश्चिम बंगाल बॉर्डर पर पहले से ही एजेंसियों के लिए सिरदर्द बन चुके रोहिंग्या अब देश भर में तबाही फैलाने की साजिश में जुटे हैं. इस बात की तस्दीक पहले ही केंद्रीय खुफिया एजेंसियां दे चुकी है. अब जम्मू-कश्मीर में 155 ऐसे रोहिंग्या मिले हैं, जो म्यांमार में अपनी सजा से बच कर यहां रह रहे थे. इस खबर के बाद सनसनी फैल गई है. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इस सभी गिरफ्तार कर ‘होल्डिंग सेंटर’ भेज दिया गया है. जम्मू जोन के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस ने कहा कि 5 मार्च 2021 को गृह मंत्रालय के नोटिफिकेशन का पालन करते हुए रोहिंग्या मुस्लिमों को होल्डिंग सेंटर में भेजा गया है. उन्होंने कहा कि इस मामले में कानूनी कार्रवाई नियम-कायदों के तहत की गई है. इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस ने बताया कि ऐसे अन्य अवैध घुसपैठियों की पहचान करने की कोशिशें भी जारी हैं. रोहिंग्या मुस्लिमों के बायोमेट्री और दूसरे डिटेल्स जुटाए जा रहे हैं.

बता दें कि उन्हें होल्डिंग सेंटर में भेजे जाने के बाद उनकी राष्ट्रीयता की पहचान की जाएगी. जब पहचान हो जाएगी कि ये किस देश के नागरिक हैं, इसके बाद उन्हें वहां प्रत्यर्पित कर दिया जाएगा. जम्मू के मौलाना आजाद स्टेडियम में रोहिंग्या मुस्लिमों के वेरिफिकेशन का कार्य चल रहा है. एक बुर्कानशीं महिला ने बताया कि उससे उसका नाम और माता-पिता के बारे में पूछा गया. एक अन्य रोहिंग्या मुस्लिम ने बताया कि पुलिस ने पूरे परिवार को मौलाना आजाद स्टेडियम में बुलाया है.

पुलिस ने उन सभी के संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त कार्यालय (UNHCR) कार्ड्स के डिटेल्स भी लिए और साथ ही कोरोना वायरस टेस्टिंग भी कराई. मौलाना आजाद स्टेडियम में कुल 200 रोहिंग्या मुस्लिमों को वेरिफिकेशन के लिए बुलाया गया था. हालांकि, इस प्रक्रिया में मीडिया को अनुमति नहीं दी है. उन रोहिंग्या मुस्लिमों के अंगूठे की छाप भी ली गई. एक रोहिंग्या मुस्लिम ने कहा कि वो 12 वर्षों से यहां है और अब तक ऐसे 50 वेरिफिकेशन प्रक्रिया में शामिल हो चुका है.

बता दें कि पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर के नरवाल की एक मस्जिद में मौलवी बनकर रहने वाले रोहिंग्या और उसके साथी को पकड़ा गया था. उनके पास से फर्जी आधार कार्ड, पैन कार्ड और पासपोर्ट बरामद किया गया था. वहीं, उत्तर प्रदेश आतंकवाद निरोधक दस्ता ने उन्नाव से रोहिंग्या भाइयों को गिरफ्तार किया था. आरोप है कि ये दोनों भारत में अवैध तरीके से रोहिंग्या की एंट्री करवाते थे. UNHCR में उनका पंजीकरण करा कर देश के अलग-अलग शहरों में उनके रहने और रोजगार की व्यवस्था करते थे. इसके लिए फर्जी दस्तावेज भी तैयार कराते थे.

Back to top button