उत्तर प्रदेशराजनीति

चुनावी महासंग्राम : निर्दलीय प्रत्याशियों ने उड़ाई बड़ी-बड़ी पार्टियों के धुरंधरों की नींद, जीत के लिए बनाया ये प्लान

*निर्दलीय प्रत्याशियों ने उड़ाई बड़ी-बड़ी पार्टियों के धुरंधरों की नींद*
*क्षेत्र की मूलभूत समस्याओं को बनाया अपना चुनावी एजेंडा*

*मौदहा हमीरपुर* चुनावी महासंग्राम निर्दलीय प्रत्याशियों ने उड़ाई बड़ी-बड़ी पार्टियों के धुरंधरों की नींद क्षेत्र की मूलभूत समस्याओं को बनाया अपना चुनावी एजेंडा।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जिला पंचायत सीट सिसोलर से वैसे तो बहुत ही बड़े-बड़े दिग्गजों ने बड़ी पार्टियों का दामन थाम रखा है परंतु निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ रखी है निर्दलीय प्रत्याशी लगातार क्षेत्र की जनता के लिए संघर्षरत हैं। सभी अपने-अपने ढंग से मतदाताओं को लुभाने के प्रयास कर रहे हैं वहीं उसके सापेक्ष क्षेत्र के मतदाताओं की माने तो उन्होंने प्रतिनिधि तो बहुत चुने हैं मगर उनके क्षेत्र के मूलभूत समस्याओं से आज तक निजात कोई भी नहीं दिला पाया चुनाव के समय बड़े-बड़े वादे कर लोकलुभावन सपने दिखाकर उनका मत हासिल करने का हमेशा से प्रयास किया गया है और करते आ रहे हैं परंतु इस बार के चुनाव में वह ऐसा प्रतिनिधि चुनेंगे जो उनके मूलभूत समस्याओं सहित क्षेत्र के विकास की ओर अग्रसर हो।

क्षेत्र की जर्जर सड़कों अन्ना गौवंश सहित पेयजल समस्या से जूझ रहे सैकड़ों गांवों की कराह रही जनता वाह भ्रष्टाचार में लिप्त जनप्रतिनिधियों के जनता के साथ किए जा रहे चलाओ से त्रस्त हो यहां के एक बड़े समाजसेवी व ठेकेदार सहित एक बड़े प्रतिष्ठित पत्रकार समाजसेवी ने भी महिला सीट होने के चलते अपनी पत्नियों को मैदान में उतार रखा है जिला पंचायत सीट सिसोलर से निर्दलीय प्रत्याशी शैलेंद्र पांडे की पत्नी दीप्ति पांडे सहित यहां के इचौली गांव निवासी विपिन बिहारी पांडे जो कि एक बड़े ठेकेदार व क्षेत्र के प्रतिष्ठित समाजसेवी के रूप में जाने जाते हैं ने भी अपनी धर्म पत्नी संध्या पांडे को निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतारा है और इन दोनों प्रत्याशियों ने ही क्षेत्र की मूलभूत समस्याओं को अपना चुनावी एजेंडा बना मतदाताओं के समक्ष पेश किया अगर जनता ने इन्हें इस लायक समझते हुए इस सीट से जीता कर जिला पंचायत का ताज पहना कार्य करने का मौका दिया तो इन इनका मुख्य मुद्दा क्षेत्र की मूलभूत समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर जल्द से जल्द निराकरण कर जनता को इनसे लागू करने का रहेगा क्षेत्र का यह सबसे ड्राई एरिया है जिस में आने वाले दर्जनों गांव जैसे टिकरी बुजुर्ग,कपसा, गुसियारी, इचौली,नायक पूरवा,जिगनौडा फत्तेपुरवा सहित तमाम गांव पानी की समस्या से अति ग्रसित हैं।

इनकी पहली प्राथमिकता इस समस्या से निजात दिलाना और क्षेत्र की अन्य समस्या को समाप्त कर गौवंशो की उचित व्यवस्था करना जिससे हमारे अन्नदाताओं को रात रात भर खेतों की रखवाली के लिए जागना ना पड़े।क्षेत्र के शैक्षणिक विकास हेतु विद्यालयों के प्रांगण का सुंदरीकरण शिक्षा के उचित साधन तथा बच्चों की प्रतिभाओं को देखते हुए उनके खेलकूद के साधनों की उचित व्यवस्था करना संक्रमित बीमारियों के प्रति जागरूकता का प्रचार प्रसार व स्वास्थ्य केंद्र के निर्माण आदि की व्यवस्था करना।

हर ग्राम पंचायतों में बरातशालाओं का निर्माण का मुद्दा पहली बैठक में ही आगे बढ़ाना जिससे क्षेत्र के गरीबों की बेटियों के शादियों में लाखों रुपए गेस्ट हाउसों के नाम पर अनावश्यक खर्च ना हो और बारात शालाओं में उचित व्यवस्था कर गेस्ट हाउसों के माध्यम से उन पर पड़ने वाले अनावश्यक खर्च से मुक्ति दिलाने सहित क्षेत्र में स्थापित मंदिर मस्जिद सहित तमाम धार्मिक स्थलों का जीर्णोद्धार व क्षेत्र में संगठन के माध्यम से मासिक बैठक कर विकास मुद्दों पर चर्चा कर उन पर उचित विकास कर जनता को खुशहाल करना इनके मुख्य मुद्दे रहेंगे। निर्दलीय प्रत्याशियों के द्वारा क्षेत्र की इन मूलभूत समस्याओं को प्राथमिकता देने के चलते जनता का भरपूर आशीर्वाद इनको मिल रहा है जिससे बड़ी-बड़ी पार्टियों के धुरंधरों की नींदें उड़ी हुई है।

Back to top button