खेलजरा हट के

खेल कोटे में खेल: मोनी रानी ने ट्रायल में प्रीति को 10-0 से हराया फिर भी कांस्टेबल भर्ती में प्रीति का ही चयन!

पाली। खेल कोटे से कांस्टेबल के 85 पदों की भर्ती में अनियमितता सामने आ रही हैं। कई खिलाडिय़ों ने आरोप लगाया कि उनसे कम योग्यता वाले खिलाडिय़ों को नियम विरुद्ध योग्य मान कर भर्ती कर लिया। इसको लेकर कई खिलाडिय़ों ने खेल मंत्री व मुख्यमंत्री तक अपनी शिकायतें पहुंचाई हैं। जिससे मामले की निष्पक्ष जांच करवा योग्य खिलाड़ियों का सलेक्शन किया जा सके तथा दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई हो सके।

4 दिसम्बर 2019 में कांस्टेबल सामान्य, चालक के जिला, यूनिट, बटालियन स्तर पर विज्ञप्ति जारी की गई। जिसमें कांस्टेब चालक के लिए 248 व उत्कृष्ठ खिलाडिय़ों के लिए 85 पद आरक्षित थे। खेल कोटे से पाली की कुश्ती खिलाड़ी मोनी रानी ने भी आवेदन किया था।

प्रदेश से आई थी 12 लड़कियां

भर्ती में प्रदेश भर से खेल कोटा से 12 लड़कियां ट्रायल देने जयपुर आई थी। जिसमें पाली की कुश्ती खिलाड़ी मोनी रानी भी शामिल थी। 9 अप्रैल को जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में सभी का ट्रायल हुआ।

53 किलो की मोनी रानी ने 62 किलो की प्रीति को 10-0 से हराया फिर भी चयन नहीं

9 अप्रैल को जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में हुए ट्रायल में पाली की मोनी रानी (53 भार वर्ग) को अपने से 9 किलो ज्यादा भार वर्ग की झुंझुनूं की प्रीति (62 भार वर्ग) से नियम विरुद्ध कुश्ती करवाई। उसमें भी मोनी ने प्रीति को 10-0 से करारी हार दी। उसके बाद भी चयनकर्ताओं ने प्रीति का चयन किया। जबकि हार के बाद उसे नियमानुसार बाहर कर दिया जाना चाहिए था, लेकिन उसका चयन किया गया। इसकी शिकायत मोनी रानी ने मुख्यमंत्री व खेल मंत्री तक पहुंचाई हैं।

मेडल भी ज्यादा, फिर भी किया दरकिनार

ट्रायल देने आई लड़कियों में सबसे ज्यादा मेडल मोनी रानी के पास थे। जिसमें नेशनल में जूूनियर, सब जूनियर के मेडल शामिल है। इसके साथ वर्ष 2015, 2017 और 2019 में वह सीनियर नेशनल कुश्ती प्रतियोगिता में भी भाग ले चुकी हैं।

Back to top button