उत्तर प्रदेश

कोरोना संक्रमण व कर्फ्यू में यात्री न मिलने के चलते रोडवेज ने बंद किया 236 बसों का संचालन

कानपुर।  कोरोना संक्रमण व कर्फ्यू में यात्री न मिलने से रोडवेज को नुकसान उठाना पड़ रहा है। यात्रियों की कमी के चलते 236 बसों को डिपो में खड़ा कर दिया गया है। 350 बसों का संचालन किया जा रहा है। इनमें भी काफी शहरों के यात्रियों की निर्धारित संख्या पूरी नहीं हो पा रही है।

कोरोना की दूसरी लहर में गुजरात,महाराष्ट्र,दिल्ली से लौट कर आने वाले प्रवासियों से रोडवेज को काफी यात्री मिल रहे थे। प्रवासी व नियमित यात्री झकरकटी बस अड्डे से बसें पकड़ कर अपने घरों को जा रहे थे। प्रवासियों का आना कम होने तथा कोरोना कर्फ्यू के दौरान नियमित यात्रियों का आवागमन बंद होने से रोडवेज बसों के संचालन पर असर पड़ा है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए पहले ही रोडवेज बसों में 50 फीसद से अधिक यात्रियों को न ले जाने के निर्देश दिए जा चुके है। कोरोना कर्फ्यू के दौरान रोडवेज बसों को 50 फीसद यात्री भी नहीं मिल रहे हैं,ऐसे मेंं 40 फीसदी तक यात्रियों को ले जाने पर चालकों व परिचालकों का वेतन न काटने के निर्देश दिए गए हैं। इसके बावजूद रोडवेज बसों में सन्नाटा पसर रहा है। कानपुर क्षेत्र में 585 बसों में से 350 का ही संचालन हो रहा है। रोडवेज को हर दिन काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

रोडवेज के क्षेत्रीय प्रबंधक अनिल अग्रवाल का कहना है कि,कोरोना कर्फ्यू में रोडवेज को यात्री नहीं मिल रहे हैं। यात्री न मिलने से फिलहाल 350 बसों का संचालन किया जा रहा है। यात्रियों की संख्या बढऩे पर बसें भी बढ़ाई जाएंगी।

Back to top button