देश

कोरोना संकट : वैक्सीन लगवा चुके लोगों में संक्रमण के क्या लक्षण होते हैं?

कोरोना वायरस महामारी की शुरूआत से लेकर अब तक वायरस से संक्रमण के लक्षणों में कई बदलाव आए हैं और धीरे-धीरे इनकी संख्या बढ़ती चली गई है।महामारी की शुरूआत में सूखी खांसी और बुखार से शुरू होकर ये लक्षण सूंघने की क्षमता जाने तक पहुंच गए हैं।अब यूनाइटेड किंगडम (UK) में हो रही एक स्टडी में वैक्सीनेटेड और गैर-वैक्सीनेटेड लोगों में कोविड के लक्षणों की तुलना की गई है। आइए जानते हैं कि स्टडी के क्या नतीजे रहे। 

कैसे की गई स्टडी?

जोई कोविड लक्षण नामक इस स्टडी में कोरोना संक्रमितों से एक ऐप के जरिए अपने लक्षण बताने को कहा गया। फिर इन लक्षणों का विश्लेषण करके पता लगाया गया कि वैक्सीन लगवा चुके लोगों में कौन से लक्षण देखने को मिल रहे हैं और जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं लगवाई है, उनमें कौन से लक्षण देखने को मिल रहे हैं।नतीजों में सामने आया कि कोविड के लक्षण बदल गए हैं। डेल्टा वेरिएंट को इसका प्रमुख कारण माना गया है।

वैक्सीनेटेड समूह

वैक्सीन लगवा चुके लोगों में क्या लक्षण देखने को मिले?

स्टडी के नतीजों में सामने आया है कि जो लोग वैक्सीन लगवा चुके हैं, उनमें कोरोना वायरस से संक्रमण के कम लक्षण देखने को मिलते हैं और वो भी कम समय के लिए।इसका मतलब वे जल्दी ठीक हो जाते हैं और उनके गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना कम रहती है।दो खुराकों के बाद जो लक्षण देखने को मिले, उनमें सिर दर्द, नाक बहना, छींकना, गले में खराश और सूंघने की क्षमता जाना शामिल हैं।

दूसरा समूह

वैक्सीन न लगवाने वाले लोगों में क्या लक्षण देखने को मिले?

जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं लगवाई है, उनमें कोरोना संक्रमण के थोड़े अलग लक्षण देखने को मिले। जहां कुछ लक्षण पहले की तरह समान है, वहीं नए लक्षण में भी सूची में शामिल हुए हैं।इस समूह में सिर दर्द, गले में खराश, नाक बहना, बुखार, लगातार खांसी और कफ आदि प्रमुख लक्षण रहे। सूंघने की क्षमता जाना नौवां सबसे सामान्य लक्षण रहा, वहीं सांस लेने में परेशानी और नीचे 30वें स्थान पर रहा।

कारण

लक्षणों में बदलाव का क्या कारण?

जर्मन वायरोलॉजिस्ट क्रिस्टियन ड्रोस्टन ने कहा कि लक्षण बदल गए हैं क्योंकि ज्यादातर बुजुर्गों को वैक्सीन लग गई है और अब युवा ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं।उन्होंने कहा कि युवा लोगों में ज्यादातर लक्षण फ्लू जैसे हैं जिनमें सिर दर्द, गले में खराश और थोड़ा बुखार शामिल हैं। ड्रोस्टन ने बताया कि लगातार कफ की जो समस्या बुजुर्गों में देखने को मिलती थी, वो युवाओं में देखने को नहीं मिल रही है।

सवाल

क्या कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं वैक्सीन लगवा चुके लोग?

कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराकें लगवा चुके लोग भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकते हैं।इसका मुख्य कारण ये है कि अभी मौजूद कोई भी वैक्सीन पूरी तरह से प्रभावी नहीं है और वैक्सीन लगवाने के बाद भी कुछ लोग संक्रमित हो सकते हैं। इसके अलावा वायरस भी बदल रहा है और वैक्सीन को चकमा देना सीख रहा है।वैक्सीन का सबसे बड़ा फायदा ये है कि इसके बाद गंभीर बीमारी की संभावना बेहद कम हो जाती है।

Back to top button