देश

कोरोना रिलीफ फंड से खूब पैसे लिया मुस्तफा, सब अय्याशी में उड़ा डाले!

कोरोना ने पूरी दुनिया में हाहाकार मचा रखा है. ऐसे में कुछ लोग है कि जो आपदा में भी अवसर ढूंढ रहे हैं. जो इस समय में मानवता को शर्मसार कर रहे हैं. और ऐसा काम कर रहे हैं जो सोचने पर मजबूर कर दे. दरअसल अमेरिका के दक्षिणी कैलिफोर्निया में मुस्तफा कादरी नाम के एक 38 साल के शख्स को कोविड रिलीफ फंड के दुरुपयोग करने के आरोपों में गिरफ्तार किया गया. आप खुद सोचिए कि कोविड रिलीफ फंड से ये शख्स अय्याशियां कर रहा था. जिस फंड का उपयोग लोगों के मदद के लिए किया जाना था. उस पैसे ये शख्स मौज कर रहा था.

रिपोर्ट के मुताबिक़ मुस्तफा पर फेडरल कोविड-19 रिलीफ फंड की 5 मिलियन डॉलर यानी कि 36 करोड़ 71 लाख रूपए की राशि को बर्बाद करने के आरोप लगे है. कादरी को पिछले हफ्ते अमेरिकी सरकार के ‘पेचेक प्रोटेक्शन प्रोग्राम’ में धोखाधड़ी करने के आरोपों में गिरफ्तार किया गया था. उसके ऊपर बैंक धोखाधड़ी, वायर फ्रॉड, पहचान चुराने, और मनी लॉन्ड्रिंग समेत कई धाराएं लगाई गई हैं..

हाल्नकी मुस्तफा कादरी को बाद में ₹73,41,805 रूपए के बॉन्ड पर रिहा कर दिया गया. उसका ट्रायल 29 जून को निर्धारित किया गया है. रिपोर्ट्स के अनुसार, मुस्तफा ने अमेरिकी सरकार द्वारा कोविड-19 महामारी की वजह से हुए आर्थिक नुकसान से उबरने के लिए छोटे उद्योगों की मदद के लिए शुरू किए गए ‘पेचेक प्रोटेक्शन प्रोग्राम’ में लाखों डॉलर की धोखाधड़ी की थी. ये प्रोग्राम इसलिए शुरू किया गया था ताकि लोग आर्थिक रूप से मजबूत हो सके, और छोटे उद्योगों को लाभ मिल सके.

लेकिन मुस्तफा ने लोन राशि मिलने के बाद इसका इस्तेमाल अपने लिए फेरारी, बेंटले और एक लैम्बोर्गिनी जैसी लग्जरी कारों को खरीदने के लिए किया. इसके अलावा, उसने पीपीपी लोन के एक हिस्सा का इस्तेमाल महँगी छुट्टियों में की. और कुछ पैसे अपने पर उड़ा दिए. अदालत में अभियोजकों ने तर्क दिया कि कादरी ने तीन बैंकों में उन कंपनियों के नाम पर धोखाधड़ी वाले लोन आवेदन किए, जिनका वजूद ही नहीं था. इसके अलावा, उसके द्वारा प्रस्तुत किए गए कागजात में जाली बैंक रिकॉर्ड, नकली कर रिटर्न आदि शामिल थे.

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, कादरी ने एक लोन के लिए आवेदन करने के लिए किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर, सामाजिक सुरक्षा संख्या और हस्ताक्षर का उपयोग भी किया था. फिलहाल उसकी गिरफ्तारी के बाद, अधिकारियों ने फेरारी, बेंटले और लैम्बोर्गिनी कारों के साथ ही उसके बैंक खातों से $2 मिलियन ताकरीबन ₹1,46,89,710 रूपए जब्त किये हैं.

खैर जल्द ही इन जनाब को कानूनी रूप से सजा मिलेगी, और सारी अय्याशियां हवा में फुर्र हो जाएगी.

Back to top button