देश

कोरोना की दूसरी लहर पड़ी कमजोर! दिल्ली में हो रहा सुधार, ये राज्य अभी भी दे रहे टेंशन

नई दिल्ली :  देश में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों में मामूली कमी के साथ ही ठीक होने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। ऐसे में दिल्ली समेत कुछ राज्यों से जहां रिकवरी रेट बेहतर हुआ है, वहीं कुछ राज्यों में चिंताजनक हालात हैं। उत्तराखंड, सिक्किम, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, गोवा, राजस्थान और केरल ऐसे राज्य हैं, जहां पर कोविड-19 रिकवरी रेट सबसे कम हैं। इन राज्यों में शुक्रवार तक औसतन 80 प्रतिशत से कम मरीज ठीक हो डिस्चार्ज हो रहे थे, जो नैशनल रिकवरी रेट 83.4 प्रतिशत से कम है।

कोरोना से ठीक होने के मामलों में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को छोड़कर दिल्ली ने सभी को पछाड़ दिया है। दिल्ली में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से बेहतर 92.8 प्रतिशत का हाइयस्ट रिकवरी रेट है। इसके बाद अरुणाचल प्रदेश, लद्दाख और त्रिपुरा के साथ, तेलंगाना, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में बेहतर रिकवरी रेट है। इसके अलावा यूपी और असम में भी रिकवरी रेश्यो 86 फीसदी से ज्यादा है।

उत्तराखंड का रिकवरी रेट सबसे कम
देश में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या उत्तराखंड में सबसे कम है। उत्तराखंड में सबसे कम रिकवरी रेट 67.8 प्रतिशत है। इसके बाद सिक्किम (68.5%), कर्नाटक (70.6%), हिमाचल (72%), गोवा (73.2%), राजस्थान (73.4%) और केरल (78.3%) हैं। मिजोरम, लक्षद्वीप, नागालैंड, जम्मू-कश्मीर और पुडुचेरी अन्य ऐसे हैं जिनका रिकवरी रेट 75 प्रतिशत से कम है।

पंजाब में मृत्यु दर सबसे अधिक

इसके अलावा मेघालय, पंजाब, गुजरात, ओडिशा, झारखंड, चंडीगढ़, हरियाणा, मणिपुर, एमपी, बिहार और आंध्र प्रदेश में रिकवरी रेट 80 प्रतिशत और 85 प्रतिशत के बीच है। हालांकि कम रिकवरी रेट का मतलब यह नहीं है कि उच्च मृत्यु दर (प्रति 100 मामलों में मृत्यु) है। उदाहरण के लिए, 80.8 प्रतिशत के रिकवरी रेट वाले पंजाब में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की तुलना में मृत्यु दर सबसे अधिक 2.4% है। इसके बाद सिक्किम और उत्तराखंड क्रमशः 1.8% और 1.6% के साथ हैं।

महाराष्ट्र में अब तक 52.7 लाख पुष्ट मामले
दिल्ली और महाराष्ट्र प्रत्येक में 1.5 प्रतिशत मृत्यु दर के साथ उच्चतम मृत्यु दर वाले टॉप पांच राज्यों में शामिल हैं। ये दोनों भी महामारी से सबसे बुरी तरह प्रभावित हैं। महाराष्ट्र में अब तक 52.7 लाख पुष्ट मामले और दिल्ली में 13.7 लाख हैं। जबकि महाराष्ट्र में अभी तक सबसे अधिक सक्रिय मामले 5.3 लाख हैं, दिल्ली में शुक्रवार तक 78,000 सक्रिय मामले थे।

Back to top button