देश

कर्नाटक के चामराजनगर में ऑक्सीजन की कमी के कारण 24 मरीजों ने तोड़ा दम, मचा हड़कंप

देश में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के कारण आई ऑक्सीजन की कमी से अस्पतालों में मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है।  अब कर्नाटक के चामराजनगर स्थित जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के कारण रविवार देर रात कुल 24 मरीजों की मौत हो गई। इनमें कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज भी शामिल है। इस हादसे से अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया। सरकार ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

बेल्लारी से ऑक्सीजन पहुंचने में हुई देरी

दरअसल, चामराजनगर अस्पताल को बेल्लारी से ऑक्सीजन सप्लाई की जा रही थी, लेकिन रविवार को ऑक्सीजन आने में देरी हो गई। इससे अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म हो गई और देर रात 24 मरीजों की मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि जान गंवाने वाले अधिकतर मरीज वेंटिलेटर पर थे। ऐसे में ऑक्सीजन खत्म होते मरीजों ने तड़पते हुए दम तोड़ दिया। मरीजों की मौत के बाद अस्पताल में परिजनों की चित्कारें गूंज उठी।

जानकारी

हादसे के बाद हुई अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति

अस्पताल में 24 मरीजों की मौत के बाद देर रात मैसूर से चामराजनगर के लिए ऑक्सीजन के 250 सिलेंडर भेजे गए। इसके बाद अन्य मरीजों को ऑक्सीजन मिल सकी। बता दें अस्पताल में वर्तमान में 120 मरीज भर्ती हैं। इनमें कोरोना मरीज भी शामिल है।

खंडन

ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई मरीजों की मौत- डॉ रवि

जिला अस्पताल प्रभारी डॉ रवि ने कहा कि सभी मौतें अचानक होकर 24 घंटे के भीतर हुई है। उन्होंने इस बात से भी इनकार किया कि मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई है।

उन्होंने कहा कि सभी मरीज वेंटीलेटर पर मौजूद थे और उनकी हालत बेहद गंभीर थी। ऐसे में उनकी मौत हो गई। ऑक्सीजन की कमी के कारण मौत होने जैसा मामला नहीं है।

इधर, मृतकों के परिजनों ने मौत के बाद हंगामा करने का प्रयास किया।

बयान

मौतों की ऑडिट रिपोर्ट का किया जा रहा है इंतजार- प्रभारी मंत्री

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार चामराजनगर के जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की किल्लत की वजह से हुई मौतों पर जिला प्रभारी मंत्री सुरेश कुमार ने कहा कि मौतों की ऑडिट रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा हैं। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

इसी तरह स्वास्थ्य मंत्री डॉ के सुधाकर ने कहा, “चामराजनगर की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, मैंने मुख्यमंत्री से चर्चा की है। मैं वहां जाकर देखूंगा कि आखिरी मौतें कैसे हुईं और समस्या का निराकरण करने का प्रयास करूंगा।”

बैठक

मुख्यमंत्री ने बुलाई कैबिनेट की आपात बैठक

इस घटना को लेकर मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दुख जताते हुए चामराजनगर के जिला कलक्टर से फोन पर वार्ता पर मामले की पूरी जानकारी ली है। इसे अलावा कैबिनेट की आपात बैठक बुलाई है।

बता दें कि इससे पहले कालाबुर्गी के केबीएन अस्पताल में भी ऑक्सीजन की कमी से चार मरीजों की मौत हो चुकी है। उसी दिन यदगिर सरकारी अस्पताल में बिजली सप्लाई बाधित होने से वेंटीलेर पर मौजूद एक मरीज की भी मौत हो गई थी।

कर्नाटक में यह है कोरोना संक्रमण की स्थिति

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कर्नाटक में दिन प्रतिदिन हालात खराब होते जा रहे हैं। राज्य में रविवार को भी संक्रमण के 37,733 नए मामलें सामने आए हैं और 217 मरीजों की मौत हुई है।

राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 16,01,865 पर पहुंच गई। इनमें से अब तक 16,011 मरीजों की मौत हो चुकी है और 11,64,398 उपचार के बाद ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 4,21,456 पर पहुंच गई है।

ऑक्सीजन की कमी से लगातार हो रही मरीजों की मौत

देश में ऑक्सीजन की कमी से लगातार मरीजों की मौत हो रही है। 22 अप्रैल को दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में 25 मरीजों की मौत हो गई थी। इसके बाद 23 अप्रैल को जयपुर गोल्डन अस्पताल 25 मरीजों और 24 अप्रैल को अमृतसर में एक निजी अस्पताल में छह मरीजों की मौत हो गई थी। इसी तरह 1 मई को दिल्ली के बत्रा अस्पताल में भी ऑक्सीजन की कमी से कुल 12 मरीजों की मौत हो गई थी।

Back to top button