देश

कड़ी सुरक्षा के बीच सबरीमाला में भक्तों ने किए दर्शन, हड़ताल से जनजीवन प्रभावित

सबरीमला: मलयाली पंचांग के पवित्र महीने ‘वृश्चिकम’ के पहले दिन शनिवार को हजारों श्रद्धालुओं ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच यहां भगवान अयप्पा के दर्शन किए. वहीं बीजेपी के एक नेता को एहतियातन हिरासत में लिया गया और उन्हें निलक्कल आधार शिविर से हटा दिया गया.

इससे पहले, दक्षिणपंथी संगठन की एक महिला नेता को हिरासत में लेने के खिलाफ हिन्दू संगठनों ने 12 घंटे की हड़ताल आह्वान किया था जिसमें भक्त फंसे रहे और केरल का जनजीवन प्रभावित हुआ.

त्रावणकोर देवस्वओम बोर्ड (टीडीबी) ने स्पष्ट कर दिया कि वह सोमवार को उच्चतम न्यायालय से उसके 28 सितंबर के आदेश को लागू करने के लिए और समय की मांग करेगा.

बीजेपी कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन 
अयप्पा के मंत्र का जयघोष करते हुए बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पत्तनमतिट्टा जिले के चित्तर थाने के सामने प्रदर्शन किया, जहां सुरेंद्रन को हिरासत में रखा गया था. तिरूवनंतपुरम में, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सुरेंद्रन के खिलाफ कार्रवाई के विरूद्ध सचिवालय तक एक मार्च निकाला और यातायात को बाधित किया. पुलिस ने उन्हें तितर बितर करने के लिए पानी की बौछारों का इस्तेमाल किया.

मंदिर में माहवारी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने पर जारी गतिरोध के बीच दो महीने लंबी वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए मंदिर शुक्रवार शाम को फिर से खुला. मुख्य पुजारी वासुदेवन नम्बूदरी की निगरानी में आज सुबह पूजा शुरू हुई.

सख्त निगरानी कर रही है पुलिस 
पुलिस मंदिर परिसर के आसपास सख्त निगरानी कर रही है और निलक्कल आधार शिविर पर तीर्थयात्रियों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रही है.

हिंदू एक्य वेदी की प्रदेश अध्यक्ष के पी शशिकला को शनिवार तड़के हिरासत में लेने के बाद आहूत हड़ताल के कारण जनजीवन प्रभावित रहा. पुलिस महानिदेशक लोकनाथ बेहेरा ने मुख्यमंत्री पी विजयन से मुलाकात की ओर उन्हें कानून एवं व्यवस्था की स्थिति के बारे में जानकारी दी. पुलिस महानिरीक्षक विजय सखारे ने कहा कि भक्तों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं ताकि वे सुचारू रूप से दर्शन कर सकें.

Back to top button