खेलजरा हट के

ओलंपिक विशेष: 120 साल पहले भारत ने किया था सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन, देखिए हर बार का रिजल्ट

जापान की राजधानी टोक्यो में ओलंपिक गेम्स चल रहे हैं। भारत की स्टार महिला भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने 49 किलो वर्ग में पहले ही दिन सिल्वर जीत देश का खाता भी खोल दिया। आज हम इस विशेष लेख के जरिए आपको इस महाकुंभ में भारत की हिस्सेदारी के बारे में बता रहे हैं।

ओलंपिक गेम्स (Olympic Games) पहली बार 1896 में हुए थे। इसके 4 साल बाद यानि दूसरे ओलंपिक (Olympics) में भारत ने हिस्सा लिया था। उसके बाद 1920 में पहली बार एक टीम गई थी। फिर हर ओलंपिक में भारत ने (India at the Olympics) हिस्सा लिया। अब तक वह पदक तालिका (Olympic medal tally) में एक बार भी टॉप-10 में नहीं आया है।

Olympic Games: रैंकिंग के हिसाब से देखें तो ओलंपिक (Olympics) में भारत का बेस्ट प्रदर्शन पेरिस ओलंपिक 1900 में था। तब वह दो सिल्वर मेडल के साथ 17वें पायदान पर रहा था। उसके बाद टॉप-20 में 32 साल बाद लांस एंजिल्स 1932 ओलंपिक में जगह मिली थी। तब भारत 19वें पायदान पर रहा था। भारत को हॉकी टीम ने एक गोल्ड दिलाया था। फिर 1936 बर्लिन ओलंपिक में एक गोल्ड के साथ 20वें नंबर पर रहा था। पिछले 41 साल यानि 1980 के बाद तो भारत टॉप-25 देशों में रहा ही नहीं है।

India at the Olympics: 1980 से लेकर अब तक की बात करें तो भारत का बेस्ट प्रदर्शन 2008 में बीजिंग ओलंपिक में रहा था। तब वह एक गोल्ड और 2 ब्रॉन्ज मेडल के साथ 50वें नंबर पर रहा था। (Olympic medal tally) रैंक के हिसाब से 1996 अटलांटा और 2000 सिडनी ओलंपिक सबसे खराब रहा है। इन दोनों ओलंपिक (Olympic Games) में भारत 71वें नंबर पर रहा था।

Tokyo Olympics: भारत ने अब तक 9 गोल्ड, 7 सिल्वर और 12 ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं। देश ने 24 बार ओलंपिक (Olympics) में हिस्सा लिया है। 5 बार एक बिना मेडल के भारतीय खिलाड़ी स्वदेश लौटे हैं। 1920 अंतवर्प, 1924 पेरिस, 1976 मॉनट्रियल, 1984 लॉस एंजिल्स, 1988 सिओल और 1992 बार्सिलोना ओलंपिक में एक भी मेडल नहीं मिला था।

भारत का ओलंपिक में प्रदर्शन (India at the Olympics, Olympic medal tally)
1900 (पेरिस)– 17वां स्थान- दो मेडल
1920 (एंटवर्प) – कोई स्थान नहीं- कोई मेडल नहीं
1924 (पेरिस)– कोई स्थान नहीं- कोई मेडल नहीं
1928 (एम्सटर्डम)– 23वां स्थान- एक मेडल
1932 (लॉस एंजिल्स)– 19वां स्थान- एक मेडल
1936 (बर्लिन)– 20वां स्थान- एक मेडल
1948 (लंदन)– 22वां स्थान- एक मेडल
1952 (हेलसिंकी)– 26वां स्थान- दो मेडल
1956 (मेलबर्न)– 24वां स्थान- एक मेडल
1960 (रोम)– 32वां स्थान- एक मेडल
1964 (टोक्यो)– 24वां स्थान- एक मेडल
1968 (मेक्सिको सिटी)– 42वां स्थान- एक मेडल
1972 (म्यूनिख)– 43वां स्थान- एक मेडल
1976 (मॉनट्रियल)– कोई स्थान नहीं- कोई मेडल नहीं
1980 (मॉस्को)- 23वां स्थान- एक मेडल
1984 (लॉस एंजिल्स)– कोई स्थान नहीं- कोई मेडल नहीं
1988 (सिओल)– कोई स्थान नहीं- कोई मेडल नहीं
1992 (बार्सिलोना) – कोई स्थान नहीं- कोई मेडल नहीं
1996 (अटलांटा)– 71वां स्थान- एक मेडल
2000 (सिडनी)– 71वां स्थान- एक मेडल
2004 (एथेंस)– 65वां स्थान- एक मेडल
2008 (बीजिंग)– 50वां स्थान- तीन मेडल
2012 (लंदन)– 55वां स्थान- छह मेडल
2016 (रियो)– 67वां स्थान- दो मेडल


Back to top button