देश

एक और नई आफत : रूस में सामने आया डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक वेरिएंट, बीते 24 घंटे में इतने लोगों की मौत

नई दिल्ली। रूस में कोरोना महामारी की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है। वहां संक्रमण के बीते एक पखवाड़े से रोज करीब 35 हजार नए केस सामने आ रहे हैं, जबकि लगभग 1000 मरीजों की मौत हो रही है।

रूस में कोरोना संक्रमण की वजह से बीते 24 घंटे में 1028 लोगों की मौत हुई है। वायरस के डेल्‍टा स्‍ट्रेन का एक सब-वेरिएंट सामने आया है, जिससे यह तबाही मची हुई है। यह वेरिएंट पहले की तुलना में अधिक संक्रामक और घातक है।

रिसर्चर्स की टीम के मुताबिक, AY.4.2 का सब वेरिएंट करीब 10 प्रतिशत ज्यादा घातक है। इससे रूस में रिकॉर्ड स्‍तर पर नए मामले सामने आ रहे हैं और मौतें दर्ज की जा रही हैं।

बता दें कि AY.4.2 वेरिएंट के अगर ज्‍यादा मामले सामने आते हैं तो विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) की ओर से इस सब-वेरिएंट को वेरिएंट ऑफ इंटरेस्‍ट की लिस्‍ट में शामिल किया जा सकता है। रिसर्च टीम के अनुसार, अभी इस नए वेरिएंट के फैलने की गति धीमी है। हालांकि, यह भी बताया जा रहा है कि कोरोना वैक्‍सीन इस वेरिएंट के प्रभाव को कम करने के लिए काफी है, लेकिन जिन्‍होंने वैक्‍सीन नहीं ली है उनके शरीर में यह वेरिएंट एंटीबॉडी की क्षमता को नाटकीय रूप से बदल सकता है। वहीं, मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि रूस की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी डेल्टा के नए वेरिएंट AY.4.2 की नियमित तौर पर निगरानी कर रही है।

रूस में बेलगाम होते कोरोना के मामलों को देखते हुए राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने एक सप्ताह की छुट्टी का आदेश दे दिया है। इस दौरान कर्मचारियों को भुगतान किया जाएगा। उप प्रधानमंत्री तात्याना गोलिकोवा ने 30 अक्टूबर से एक सप्ताह का अवकाश घोषित करने का सुझाव दिया था। इस प्रस्ताव को राष्ट्रपति पुतिन ने भी मंजूरी दे दी है।

रूस में एक दिन में 34,073 नए मामले सामने आए जबकि महामारी से 1,028 लोगों की मौत हो गई। रूस में अब तक 226,353 लोगों की कोरोना महामारी से मौत हो चुकी है जबकि संक्रमितों का आंकड़ा 8,094,825 हो गया है।

बताया जा रहा है कि बीते दिनों ब्रिटेन में कोरोना संक्रमण के मामलों में आई तेजी के पीछे भी AY.4.2 सब वेरिएंट मुख्‍य कारण है। 5 अक्टूबर को जारी यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि AY.4.2 सब वेरिएंट इंग्लैंड में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों के लिए जिम्मेदार है। 27 सिंतबर के बाद यहां 6 प्रतिशत की तेजी देखी गई है।

Back to top button