उत्तर प्रदेश

एक्शन में योगी: जेल भेजे गए स्टिंग में फंसे 3 मंत्रियों के निजी सचिव

एक टेलीविजन चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में फंसे 3 राज्यमंत्रियों के निजी सचिवों को उत्तर प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। स्टिंग में आरोप लगाया गया था कि ताबदले, पट्टा और ठेका दिलाने के नाम पर  निजी सचिव पैसों की मांग करते हैं।

मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार ने 27 दिसंबर को तीनों को निलंबित कर दिया था, जिसके बाद उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। एसाईटी (जांच दल) से सरकार ने 10 दिन में रिपोर्ट देने को कहा था। इसके बाद तीनों मंत्रियों ने ही अपने निजी सचिवों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था।

हजरतगंज पुलिस ने राज्य खनन मंत्री अर्चना पांडेय के निजी सचिव एसपी त्रिपाठी, पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ओमप्रकाश राजभर और बेसिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव संतोष अवस्थी को गिरफ्तार किया है। उन्हें मजिस्ट्रेट के सामने पेश कर जेल भेज दिया गया। एसआईटी ने आरोपियों को गिरफ्तार करने की सिफारिश की थी।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में मंत्रियों के निजी सचिवों के भ्रष्टाचार करने का मामला उजागर हुआ था। एक स्टिंग ऑपरेशन में पिछड़ा वर्ग एवं दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री ओमप्रकाश राजभर के निजी सचिव ओम प्रकाश कश्यप विभागीय ट्रांसफर के लिए रिश्वत मांगते दिखाई दे रहे थे तो वहीं बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव संतोष अवस्थी ने किताबों का ठेका दिलाने के एवज में रिश्वत की मांग की थी। इसके अलावा खनन राज्यमंत्री अर्चना थे, वो आबकारी का एक काम करने के लिए मोटी रकम की मांग कर रहे थे।

Back to top button