धर्म

इस मंत्र का जाप करने वालों को मिलेगी मनचाही दुल्हन, जरूर जानिए

हर लड़का यही चाहता है कि उसकी पत्नी उसके पसंद की हो। उसने जैसा अपने पत्नी के बारे में सोचा है, उसे वैसी ही पत्नी मिले। अगर मनपसंद का जीवनसाथी मिल जाता है तो जीवन काटना आसान हो जाता है। मनपसंद का जीवनसाथी ना मिलने पर लोग काफ़ी निराश हो जाते हैं। अगर आप भी चाहते हैं कि आपकी दुल्हन आपने मनमुताबिक हो तो आपको ज़्यादा कुछ करने की ज़रूरत नहीं है। आप बस हर रोज़ सिर्फ़ एक काम करके अपने माँ की इस मुराद को पूरी कर सकते हैं।

हिंदू धर्मग्रंथों के अनुसार माता दुर्गा की पूजा करने से भक्त की हर मनोकामना पूरी हो जाती है। माँ दुर्गा से सम्बंधित अनेक धर्मग्रंथ हिंदू धर्म में हैं, लेकिन इनमे से सबसे ज़्यादा महत्व दुर्गा सप्तशती का है। ऐसा कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति दुर्गा सप्तशती का पाठ पूरे विधि-विधान से करता है, उसके जीवन के बुरे दिन दूर हो जाते हैं और जीवन में ख़ुशियों का आगमन हो जाता है। केवल यही नहीं दुर्गा सप्तशती का हर रोज़ पाठ करने से व्यक्ति की हर तरह की मनोकामनाएँ भी पूरी हो जाती हैं।

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पंडित मनीष शर्मा के अनुसार दुर्गा सप्तशती में कई ऐसे मंत्र हैं, जिनका पाठ करने से व्यक्ति की हर तरह की मनोकामनाएँ पूरी हो जाती हैं। अगर आप ख़ूबसूरत और मनचाही पत्नी की चाहत रखते हैं तो दुर्गा सप्तशती के पाठ से आपकी यह मनोकामना भी पूरी हो सकती है। दुर्गा सप्तशती में इसके लिए एक मंत्र बताया गया है, जिसका हर रोज़ जाप करने से आपकी यह मनोकामना पूरी हो सकती है।

मंत्र:
पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानु सारिणीम्।
तारिणींदुर्गसं सारसागरस्य कुलोद्भवाम्॥

अर्थ:
ही देवी मुझे माँ की इच्छा अनुसार चलने वाली ख़ूबसूरत पत्नी प्रदान करो, जो दुर्गम संसार सागर से तारने वाली तथा उत्तम कुल में उत्पन्न हुई हो।

मंत्र का जाप करने की विधि:

*- सुबह-सुबह जल्दी जागकर स्नान आदि कार्यों से निवृत्त होकर साफ़-सुथरे वस्त्र पहनकर देवी दुर्गा की पूजा करें।

*- देवी दुर्गा की मूर्ति या चित्र अपने सामने रखकर आसन लगाकर रुद्राक्ष की माला से इस मंत्र का जाप करें। मंत्र का जाप करते समय इस बात का ध्यान रखें की हर रोज़ इस मंत्र का पाँच माला जाप करें। ऐसा करने पर आपकी मनचाही पत्नी पाने की इच्छा पूरी हो जाएगी।

*- आसन लगाते समय यह ध्यान रखें की आसन कुश का होना चाहिए।

*- इस मंत्र का जाप करने के बारे में कहा गया है कि हर रोज़ एक ही समय, एक ही आसन पर बैठकर और एक ही माला से जाप किया जाए तो यह मंत्र जल्द ही सिद्ध हो सकता है।

नोट:
आपको बता दें इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक लिखा गया है, लेकिन अगर फिर भी कोई त्रुटि मिलती है तो यह मात्र एक संयोग होगा। इसमें लिखी गयी सभी बातें ज्योतिषाचार्य मनीष शर्मा के अनुसार बतायी गयी हैं, अगर आपको किसी तरह का संदेह हो तो आप किसी अन्य ज्योतिषी से इसके बारे में सलाह ले सकते हैं।

Back to top button