ख़बरदेश

इमरान को भारत का करारा जवाब, कहा- आतंक पर मत बनाओ बहाने, कार्रवाई के लिए पर्याप्त सबूत

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर आए इमरान खान के बयान के बाद भारत ने सिलसिलेवार तरीके से इसका जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि पाकिस्तान में वहां के मंत्री हाफिज सईद जैसे आतंकवादियों के साथ सार्वजनिक रूप से मंच साझा करते हैं, जिसको संयुक्त राष्ट्र द्वारा ने भी बैन कर रखा है। बता दें कि भारतीय सैनिकों पर हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को लेकर पूरा देश आक्रोशित है। इस हमले में भारत के 40 जवान शहीद हो गए थे।

रवीश कुमार ने कहा, ‘इमरान ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के दावों को नजरअंदाज कर दिया है। आतंकी जिन्होंने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया, कबूल किया था कि वह JeM से हैं और यह सभी जानते हैं कि JeM और उसका चीफ मसूद अजहर पाकिस्तान में है। पाकिस्तान के पास कार्रवाई करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं।’

रवीश कुमार ने कहा, ‘पाक पीएम ने कहा कि अगर भारत सबूत देता है तो वह इस मामले की जांच करेंगे। यह फालतु की बातें हैं और पाक पीएम बहाना बना रहे हैं। 26/11 को मुंबई में हुए आतंकी हमले में पाक को सबूत मुहैया कराए गए थे, लेकिन 10 साल से ज्यादा समय बीत चुका है और कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इसी तरह पठानकोट में हुए आतंकी हमले पर भी पाक द्वारा कोई एक्शन नहीं लिया गया। पाक के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए गारंटीड एक्शन लेने का वादा खोखला दिखाई पड़ता है।’

उन्होंने कहा, ‘पाक पीएम ने भारत को बातचीत के लिए बुलाया है। मैं यह एकबार फिर कहना चाहता हूं कि आतंकवाद और वार्ता एकसाथ नहीं चल सकती। भारत ने बार-बार कहा है कि वह आतंक और हिंसा से मुक्त माहौल में व्यापक द्विपक्षीय वार्ता में शामिल होने के लिए तैयार है। पाकिस्तान आतंकवाद का सबसे बड़ा शिकार होने का दावा करता है। यह बिलकुल झूठ है, क्योंकि इंटरनेशनल कम्यूनिटी इस वास्तविकता से अच्छी तरह परिचित हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद का सबसे बड़ा केंद्र है।’

बता दें कि पाक वजीर-ए-आजम इमरान खान ने मंगलवार को पुलवामा आतंकी हमले के लिए पाक पर लग रहे आरोप को लेकर एक वीडियो स्टेटमेंट जारी किया था। इसमें उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान खुद आतंकवाद से परेशान हैं। अकेले पाकिस्तान में ही आतंकवाद के कारण 70 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। इमरान ने कहा था, पुलवामा हमले का आरोप भारत पाकिस्तान पर लगा रहा है। अगर भारत के पास सबूत हों तो वो पाकिस्तान को मुहैया कराए। अगर यह साबित होता है तो मैं खुद इस पर एक्शन लूंगा।

इमरान ने कहा था कि जब भी हिंदुस्तान से बातचीत की शुरुआत होती है, वह दहशतगर्दी खत्म करने के लिए कहता है। हालांकि हम बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन भारत को भी कश्मीर मसले पर गौर करना होगा। भारत में आम चुनाव के मद्देनजर जंग का माहौल तैयार किया जा रहा है, ताकि चुनाव जीत सकें।

Back to top button