देश

आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाक के लिए एक और मुसीबत, अब मुर्गे की कीमत में लगी आग

इस्लामाबाद
पाकिस्तान में मुर्गे की मीट की कीमत में आई अप्रत्याशित तेजी से कराची की गरीब अवाम हलकान है। वहीं, नया पाकिस्तान का नारा देने वाले प्रधानमंत्री इमरान खान धर्म और भारत के नाम पर पाकिस्तानी जनता को बरगलाने में जुटे हुए हैं। केवल चिकन मीट ही नहीं, पाकिस्तान में अंडे और अदरक के भाव भी सातवें आसमान पर है। रावलपिंडी में अंडे की कीमत 350 रुपये प्रति दर्जन और एक किलो अदरक 1000 रुपये का बिक रहा है। कुछ दिन पहले तक आटे के लिए घंटों लाइन लगाने वाले पाकिस्तानियों को अब रसोई गैस की भी किल्लत का सामना करना पड़ सकता है।

कराची-लाहौर में भी मुर्गे की कीमत में लगी आग
पाकिस्तान की ARY News की रिपोर्ट के अनुसार, कराची में जिंदा मुर्गे की कीमत 370 रुपये प्रति किलोग्राम और मीट की कीमत 500 रुपये तक पहुंच गई है। बड़ी संख्या में स्थानीय खरीदारों ने चिकन मीट की कीमतों में वृद्धि को लेकर गुस्सा जाहिर किया है। जबकि, लाहौर में चिकन मीट की कीमत 365 रुपये प्रति किलोग्राम बताई जा रही है।

इसलिए बढ़ा मुर्गे का दाम
कराची के एक विक्रेता ने बताया कि मुर्गे के मीट का दाम बढ़ने के पीछे चारा और कच्चे माल की कीमतों में बेहताशा बढोत्तरी है। इससे पोल्ट्री के उत्पादों की लागत भी बढ़ी है। हमें अपने नुकसान की भरपाई करने के लिए मीट का दाम बढ़ाना पड़ रहा है। विक्रेता संघों ने बताया कि आने वाले दिनों में मीट की कीमत कम होगी। कई पोल्ट्री उत्पादक संगठन बाहर से माल मंगाने पर विचार कर रहे हैं।

मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने में इमरान खान फेल
पिछले महीने प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश में बढ़ती मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा (केपी) की बाजार समितियों को भंग कर दिया था। इमरान ने इस्लामाबाद में आवश्यक वस्तुओं के मूल्य नियंत्रण के संबंध में एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह निर्णय लिया था। दरअसल इन दोनों राज्यों से मिस गवर्नेंस और भ्रष्टाचार की खूब शिकायतें मिली थीं।

रसोई गैस की कमी से बुझ सकते हैं पाकिस्तानी चूल्हे
पाकिस्‍तान जनवरी महीने में भीषण गैस संकट से जूझने जा रहा है। पाकिस्‍तान में गैस की सप्‍लाइ करने वाली कंपनी सुई नॉर्दन 500 मिलियन स्‍टैंडर्ड क्‍यूबिक फुट प्रतिदिन गैस की कमी से जूझेगी। गैस की इस भारी किल्‍लत की वजह से कंपनी के पास पॉवर सेक्‍टर को गैस की आपूर्ति रोकने के अलावा कोई चारा नहीं होगा। पाकिस्‍तान की इमरान खान सरकार ने समय से गैस नहीं खरीदा जिसका खामियाजा अब देश की जनता को भुगतना पड़ रहा है।

Back to top button