उत्तर प्रदेश

आज बीजेपी के लिए ‘वैश्य’ हैं हनुमान, इसी जाति के ही बताए गए श्रीराम

इन दिनों उत्तर प्रदेश में भगवान हनुमान की जाति राजनीति का विषय बनी हुई हैं. भाजपा के नेता लगातार भगवान श्रीराम और हनुमान को लेकर नए-नए बयान देते जा रहे है. उनके इन बयानों से विवाद थमता नज़र नहीं आ रहा है. भाजपा के नेताओं का भगवान की जाति बताने का सिलसिला आज भी जारी है और हर नेता भगवान श्रीराम और हनुमान की अलग-अलग जाति और धर्म का बताने में लगा हुआ है. इसी दौरान एक भाजपा नेता ने भगवान श्रीराम और हनुमान को वैश्य समाज का बताया है.

राजस्थान के अलवर में एक रैली के दौरान उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने हनुमान जी को दलित बताया था. इसके बाद केद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने कहा था कि हनुमान आर्य थे. अनूसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष ने हनुमान को आदिवासी बताया था. इस विवाद में भीम आर्मी मुखिया चंद्रशेखर ने दलितों से हनुमान मंदिरों पर कब्जा करने को कहा था. कई हनुमान मंदिरों के बाहर काफी बवाल भी हुआ था. ऐसी खबरें पूरे प्रदेश से सामने आई थीं. इससे बाद भाजपा एमएलसी बुक्कल नवाब ने कहा कि हनुमान जी मुसलमान थे और मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि मुसलमानों के नाम ही रहमान, सुल्तान, इमरान, जीशान, रिहान जैसे होते हैं और उसी तरह हनुमान नाम भी है इसलिए मेरा मानना है कि हनुमान जी मुसलमान थे.

इन सब बयानों से दो कदम आगे निकलते हुए भाजपा के फायर ब्रेंड नेता विनीत अग्रवाल शारदा ने भगवान श्रीराम और हनुमान को वैश्य समाज का बता दिया. विनीत अग्रवाल शारदा ने कहा भगवान श्री राम और हनुमान दोनों ही वैश्य समाज से हैं.दरअसल विनीत अग्रवाल शारदा अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं. वहीं राम मंदिर पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि किसने कहा कि राम मंदिर का निर्माण नहीं हो रहा वहां तो लगातार राम मंदिर का काम चल रहा है. जल्द ही भगवान श्रीराम तंबू से निकल कर अपने भव्य मंदिर में रहेंगे.

Back to top button