क्राइम

अमेरिका में बैन इस कुत्ते की राजस्थान में भारी डिमांड, पिटबुल की कराते हैं फाइट, एक-दूसरे की ले लेते हैं जान

जयपुर के टैगोर नगर में 19 जुलाई को पिटबुल कुत्ते ने 11 साल के बच्चे पर हमला कर दिया था। कुत्ते के जानलेवा हमले में बच्चा बुरी तरह से घायल हो गया था। बच्चे का एसएमएस अस्पताल में इलाज चल रहा है। उसके चेहरे की सर्जरी की जाएगी। आज हम आपकों बता रहे हैं कैसे पिटबुल डॉग राजस्थान में स्टेटस सिंबल बन गया है। पिटबुल को लेकर लोगों में दीवानगी क्यों है। वैसे तो अमेरिका में पिटबुल काे बैन किया गया है। हम अगर जयपुर की बात करें तो यहां करीब 250 से ज्यादा पिटबुल डॉग है। इन्हें फार्म हाउस पर बड़े मकानों में सुरक्षा के लिए रखा जाता है। वहीं पूरे राजस्थान की बात करें ताे गंगानगर और हनुमानगढ़ में ही दो हजार से ज्यादा पिटबुल डॉग हैं। माना जाता है कि पंजाब से सटे कुछ इलाकों में हर तीसरे घर में पिटबुल डॉग है।

राजस्थान में पिटबुल डॉग सबसे ज्यादा गंगानगर और हनुमानगढ़ में है। यहां पर डॉग फाइट कराई जाती है। इन फाइट्स में एक लाख रुपए से लेकर पांच लाख रुपए तक की शर्त लगाई जाती है। खास बात है कि इन डॉग के रेट्स भी फाइट पर ही तय होते हैं। जैसे कि एक डॉग ने 10 फाइट जीत ली है तो उसकी कीमत 5 लाख रुपए हो जाती है। ऐसे डॉग के पप्पी की कीमत भी ज्यादा होती है। इन्हें 50 हजार रुपए तक बेचा जाता है। ये फाइट इतनी खतरनाक होती है कि डॉग एक-दूसरे काे जान से मार देते हैं। जीतने वाले डॉग मालिक की ओर से जश्न मनाया जाता है। पंजाब और हरियाणा से सटे दो जिले गंगानगर और हनुमानगढ़ में डॉग फाइट की दीवानगी है। यहां पर डॉग फाइट स्टेटस सिंबल बन चुका है।

बीकानेर में हुए डॉग शो में 60 से ज्यादा पिटबुल पहुंचे

बीकानेर में कुछ समय पहले एक डॉग शो कराया गया था। शो में गंगानगर और हनुमानगढ़ के अलावा कई जगहों से 60 से ज्यादा पिटबुल डॉग आ गए थे। तब संचालकों ने पिटबुल को शो में पार्टिसिपेट करने से मना कर दिया था। उनके बीच में काफी कहासुनी हो गई थी और विवाद भी हो गया था। वे लोग पार्किंग में आ गए थे। हैरानी की बात है कि उन्होंने शर्ते लगाकर पार्किंग में ही डॉग के बीच फाइट शुरू कर दी थी। कुत्तों के लड़ने की आवाजें सुनकर संचालक पहुंचे। उन्हें फाइट करने से मना किया और पुलिस को बुलाने की बात कहीं। तब जाकर वे लेाग माने और वहां से गए।

बेहद ही आक्रमक होता है पिटबुल डॉग। कई जगह करवाई जाती है फाइट।

बेहद ही आक्रमक होता है पिटबुल डॉग। कई जगह करवाई जाती है फाइट।

स्टेरॉयड व नशीली दवाएं दे रहे

इंटरनेशनल डॉग एक्सपर्ट वीरेन शर्मा ने बताया पिटबुल डॉग को अधिकतर फार्म हाउस व गार्डन में रखा जाता है। बुल डॉग और टेरियर प्रजाति को क्रॉस कर पिट बुल को बनाया गया था। ये बहुत ही पॉवरफुल और मार्शल ब्रीड है। डॉग शो में पिटबुल को शामिल होने नहीं दिया जाता है, क्योंकि ये अन्य डॉग की अपेक्षा ज्यादा एग्रेसिव रहता है। उन्होंने बताया कि लालच के कारण पिटबुल को फाइट के लिए इस्तेमाल करने लग गए हैं। इन्हें स्टेरॉयड देने लग गए हैं। यहां तक कि इन्हें नशीली दवाएं देते हैं। इससे बहुत ज्यादा माइंड पर असर पड़ता है। ये इंसान पर तो अटैक नहीं करते है, लेकिन अन्य डॉग को देखकर तुरंत हमला कर देते हैं। वे बताते हैं कि खूंखार पिटबुल से क्रॉस ब्रीड कराया जाता है। फाइट के लिए तैयार कर बेचा जाता है।

जयपुर में पिटबुल के हमले से विशाल के हाथ, पैर, सिर और चेहरे पर 20 गहरे घाव हो गए हैं।

जयपुर में पिटबुल के हमले से विशाल के हाथ, पैर, सिर और चेहरे पर 20 गहरे घाव हो गए हैं।

जयपुर में केवल 518 डॉग का रजिस्ट्रेशन

डॉग एक्सपर्ट का कहना है कि जयपुर में 1 लाख से अधिक अलग-अलग किस्म के डॉग है। चिंता की बात तो यह है कि नगर निगम में केवल 518 डॉग का ही रजिस्टेशन करवाया गया है। भारत के मुकाबले अमेरिका में नियम काफी सख्त है। वहां पर बिना रजिस्टेशन के डॉग नहीं पाल सकते हैं। सबसे बड़ी बात है कि डॉग की तेज आवाज आने पर पड़ोसी ही शिकायत कर देते हैं। इस पर भारी जुर्माना लगाया जाता है। इसी कारण से पिटबुल जैसे डॉग को बैन किया गया है। वहां पर अधिकतर मेल डॉग की बजाए फीमेल को घरों में रखा जाता है।

जयपुर में मासूम विशाल को नोच खाया पिटबुल कुत्ता।

जयपुर में मासूम विशाल को नोच खाया पिटबुल कुत्ता।

जयपुर में कुत्ते को घुमाने पर 31 विवाद हो चुके

डॉग बाइट के रोजाना नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। जयपुर की बात करें तो पिछले कुछ दिनों में 31 मामले डॉग घुमाने पर हुए विवाद को लेकर पुलिस थानों में दर्ज हो चुके हैं। पिछले दिनों एक डॉग को पड़ोसी ने कार से कुचल कर मार दिया था। शिप्रापथ में तो डॉग को घुमाने से परेशान युवक ने महिला की हत्या कर डाली थी। अलवर में एक कुत्ते को मारने का वीडियो वायरल हुआ था। जिस पर जॉन अब्राहम ने भी वीडियो जारी किया था। इसके बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया था।

Back to top button