क्राइम

अमेरिका में बदलने जा रही सत्ता, महाविनाशक मिसाइल से स्वागत किया कोरियाई तानाशाह

परमाणु हथियारों से लैस उत्‍तर कोरिया के सनकी तानाशाह किम जोंग उन ने सत्‍तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की बैठक के खत्‍म होने पर दुनिया को अपने महाविनाशक हथियारों की नुमाइश करके दहशत में डाल दिया। इस परेड में तानाशाह किम ने पनडुब्‍बी से दागे जाने वाली किलर मिसाइल को पहली बार पेश किया। माना जा रहा है कि सनकी तानाशाह ने अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति जो बाइडन के सत्‍ता संभालने से ठीक पहले शक्ति प्रदर्शन करके अपने सबसे बड़े दुश्‍मन को कड़ा संदेश दिया है। पूरे परेड में उत्‍तर कोरिया की सेना ने एक से बढ़कर घातक हथियारों के साथ परेड किया। उत्‍तर कोरिया की जनता जहां कंगाली और गरीबी से जूझ रही वहीं तानाशाह ने आतिशबाजी पर जमकर पैसा बहाया। आइए देखते हैं उत्‍तर कोरिया के महाविनाशक हथियारों की तस्‍वीर…..

​तानाशाह किम जोंग उन ने दी सैन्‍य परेड को सलामी

उत्‍तर कोरिया की सरकारी मीडिया ने बताया कि किम जोंग उन 5 साल में एक बार होने वाले पार्टी कांग्रेस के केंद्र में रहा। इसी बैठक में किम जोंग ने अमेरिका को अपना सबसे बड़ा शत्रु करार दिया। इस सैन्‍य परेड की तस्‍वीरें उत्‍तर कोरिया की सरकारी एजेंसी केसीएनएन ने जारी किया है। इस परेड के दौरान किम जोंग उन काला फर से बना हैट लगाए हुए था और उसने लेदर की कोट पहन रखी थी। किम जोंग उन ने किम इल सुंग चौक पर हजारों की तादाद में मौजूद सैनिकों और आम जनता का मुस्‍कराकर स्‍वागत किया। इस चौक का नाम किम के दिवंगत पिता के नाम पर रखा गया है। उत्‍तर कोरियाई एजेंसी ने कहा कि जब हजारों सैनिकों के साथ अत्‍याधुनिक हथियार चौक से गुजरे तो जनता ने हुंकार भरके इनका स्‍वागत किया।

उत्‍तर कोरिया ने दिखाई दुनिया की ‘सबसे खतरनाक मिसाइल’
उत्‍तर कोरियाई एजेंसी ने दावा किया कि इस सैन्‍य परेड के दौरान दुनिया की ‘सबसे खतरनाक मिसाइल’ का प्रदर्शन किया गया। इस मिसाइल को सबमरीन के जरिए दागा जा सकता है। परेड के अंत में सॉल‍िड फ्यूल से चलने वाली कम दूरी की नई मिसाइल का प्रदर्शन किया। बताया जा रहा है कि यह मिसाइल तेजी से कहीं भी ले जाई जा सकती है। उत्‍तर कोरिया की सबमरीन से दागे जाने वाली मिसाइल Pukguksong-5 इससे पहले दिखाई गई Pukguksong-4 मिसाइल का अपग्रेड वर्जन है। इससे पहले अक्‍टूबर महीने में उत्‍तर कोरिया ने Pukguksong-4 मिसाइल को पेश किया था। केसीएनएन ने कहा, ‘दुनिया का सबसे खतरनाक हथियार सबमरीन से दागे जाने वाली मिसाइल एक के बाद चौक पर एक आ रही है। यह क्रांतिकारी सेना की ताकत को दर्शाता है।’

किम जोंग ने नवनिर्वाचित अमेरिकी राष्‍ट्रपति को दिया सख्‍त संदेश

उत्‍तर कोरिया ने गुरुवार को हुई इस परेड के दौरान देश की सबसे बड़ी अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल का प्रदर्शन नहीं किया। इस मिसाइल के बारे में कहा जाता है कि यह अमेरिका के किसी भी कोने में परमाणु बम गिराने में सक्षम है। वर्कर्स पार्टी के 8 दिन तक चली बैठक में किम जोंग उन ने देश की परमाणु हथियारों की ताकत और मिसाइलों का जखीरा बढ़ाने का वादा किया। माना जा रहा है कि अपने इस बयान और शक्ति प्रदर्शन के जरिए किम जोंग उन ने 20 जनवरी को अमेरिका के नए राष्‍ट्रपति बनने जा रहे जो बाइडन को सख्‍त संदेश दिया है। विश्‍लेषकों का मानन है कि किम जोंग उन ने अपने बयानों के जरिए बाइडन को संदेश देने का प्रयास किया। बाइडन ने उत्‍तर कोरियाई नेता को ठग करार दिया था। बाइडन ने आरोप लगाया था कि ट्रंप सनकी तानाशाह की महत्‍वाकांक्षाओं को रोकने में नाकाम रहे।

​कंगाली से जूझ रहे उत्‍तर कोरिया में जमकर आतिशबाजी

किम जोंग उन ने परमाणु हथियारों की वजह से लगे अमेरिकी प्रतिबंधों से देश की अर्थव्‍यवस्‍था को बचाने, कोरोना वायरस और प्राकृतिक आपदाओं से निपटने की योजना का भी खुलासा किया। अमेरिकी प्रत‍िबंधों की वजह से उत्‍तर कोरिया की अर्थव्‍यवस्‍था गर्त में चली गई है लेकिन किम जोंग उन ने मिलिट्री परेड के दौरान जमकर आतिशबाजी का प्रदर्शन किया। इन्‍हीं प्रतिबंधों की मार की वजह से किम जोंग उन ने डोनाल्‍ड ट्रंप से बात की थी लेकिन यह वार्ता बेपटरी हो गई। इन प्रतिबंधों की वजह से किम जोंग उन को 9 साल के शासन में पहली बार इतने संकट से गुजरना पड़ रहा है। हालांकि उत्‍तर कोरियाई नेता ने बाइडन के साथ बातचीत की संभावनाओं से इंकार नहीं किया है। इससे पहले ट्रंप और किम जोंग की बातचीत को काफी प्रचारित किया गया था लेकिन उसका कोई ठोस परिणाम नहीं निकला।

Back to top button