क्राइम

अभी पास भी नहीं हुई चीन की कोरोना वैक्सीन, लेकिन शुरू हो गई ब्लैक-मार्केटिंग

नई दिल्ली :  पूरे विश्व में कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी को खत्म करने के लिए वैक्सीन ( पर काम चल रहा है। विश्व के अलग-अलग देश अपने यहां बनी वैक्सीन की सफलता की घोषणा भी कर चुके हैं। खैर, उम्मीद ये है कि अगले साल के शुरुआत तक वैक्सीन आ जाएगी। लेकिन अब पूरी दुनिया में इस बात को लेकर गहन चिंतन हो रहा है कि वैक्सीन आने के बाद इसको जल्दी से जल्दी कैसे लोगों तक पहुंचाया जाए। क्योंकि लोग सबसे पहले वैक्सीन चाह रहे हैं ताकि वो इस बीमारी की जद में न आएं। लेकिन चीन में इससे कालाबाजारी शुरू हो चुकी है।

अमेरिका यात्रा से पहले चेंग चाहते हैं वैक्सीन
चीन के रहने वाले चेंग अमेरिका की यात्रा करना चाहते हैं और उससे पहले चेंग कोरोना वैक्सीन लगवाना चाहते हैं ताकि वो आराम से और बेफिक्र होकर यात्रा कर सकें। चेंग ने वैक्सीन के लिए दक्षिण-पूर्व चीन में एक कोल्ड-चेन लॉजिस्टिक्स कंपनी में काम करने वाले एक मित्र से संपर्क साधा।
बीजिंग के एक व्यवसायी स्वामी चेंग अब ग्वांगडोंग प्रांत के लिए उड़ान भरने और $ 91 का भुगतान करने की योजना बना रहे हैं, जिसके बारे में उनका मानना है कि सिनोफर्म की एक इकाई द्वारा उत्पादित एक वैक्सीन है जोकि चीनी डेवलपर है और उम्मीद है कि वो वैक्सीन पूरे विश्व तक पहुंचाई जाएगी।

ऐसे होता है भुगतान
चेंग ने बताया कि आप उस वैक्सीन के लिए सिर्फ Alipay डिजिटल मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से ही भुगतान कर सकते हैं लेकिन आपको उसका कोई विवरण नहीं मिलेगा। क्योंकि जाहिर तौर पर यह काला बाजार है। चेंग ने अपना नाम सार्वजनिक नहीं किया और केवल उनका अंतिम नाम ही यहां पर लिया गया है। ताकि चीन में उन पर किसी तरह की परेशान न आ पाए।

चीन में इमरजेंसी उपयोग के लिए अनुमति
वैक्सीन डेवलपर्स के रूप में एस्ट्राज़ेनेका और फाइज़र वैक्सीन बनाने के लिए अंतिम चरण पर हैं। अब ये दोनों कंपनी राष्ट्र के बाहर बेचने की चुनौती के लिए तैयारी कर रहे हैं। कंपनी ज्यादा से ज्यादा तादान में वैक्सीन सप्लाई करना चाहती हैं ताकि इसकी कमी न हो और न ही वैक्सीन की कालाबाजारी हो। चीन में पहले से ही टीके की डिलीवरी का परीक्षण किया जा रहा है। चीन ने अपने स्थानीय डेवलपर्स को मध्य वर्ष से आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमति दी है।

पूरे रैकेट के बारे में चर्चा

हालांकि चीन में कहा गया था कि सबसे पहले वैक्सीन फ्रंट लाइन में काम करने वालों को लगेगी। जैसे कि कोविड के सीरियस मरीज और बंदरगाह के कर्मचारियों का इलाज करने वाले चिकित्सा कर्मचारी। ब्लूमबर्ग न्यूज ने लगभग एक दर्जन लोगों से बात की। जो वैक्सीन के टीके की कालाबाजरी के लिए लगे थे। उन्होंने पहचान न करने या केवल अपने पहले नामों का उपयोग करने के लिए कहा इसलिए वे अपने अनुभवों के बारे में स्वतंत्र रूप से बात की। जो कतार में कूदने के लिए काम करने वाले कनेक्शन और अधिकारियों के एक प्रचलित अभ्यास की ओर इशारा करते हैं।

अभी तक डेटा जारी नहीं
पश्चिमी मोर्चे के विपरीत चीनी वैक्सीन निर्माताओं ने अभी तक चरण III परीक्षणों में अपने रिजल्ट की प्रभावकारिता पर कोई सार्वजनिक डेटा जारी नहीं किया है, जिससे यह बताना मुश्किल हो जाता है कि उनके प्रयास कितने सफल रहे हैं।

Back to top button