उत्तर प्रदेश

अप्रशिक्षित डाक्टर और नर्सों द्वारा इलाज के नाम पर किया जा रहा मरीजों की जान से खिलवाड़!

बेहजम कस्बें में चल रहा मानक विहीन गैर पंजीकृत रायल हॉस्पिटल

लखीमपुर-खीरी  : जहां एक तरफ योगी सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब जनता को निशुल्क स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने का बीड़ा उठाए हुए हैं।वही जनपद खीरी के बेहजम कस्बे में बिना रजिस्ट्रेशन के कई नर्सिंग होम व  हॉस्पिटल अप्रशिक्षित डॉक्टर और नर्सों के द्वारा चलाए जा रहे हैं जो उनके लिए अवैध कमाई का जरिया बनकर गरीब जनता को लूट घसोट रहे हैं।वही मरीजों के जीवन से खिलवाड़ करते नजर आ रहे हैं अप्रशिक्षित डॉक्टरों के द्वारा मरीजों का ऑपरेशन व भ्रूण हत्या क्या कारोबार चरम सीमा पर फल फूल रहा है।जिसका जीता जागता उदाहरण कस्बा बेहजम के धवन पेट्रोल पंप के सामने रॉयल हॉस्पिटल के नाम से फिजियो थेरेपी कराने वाले डॉक्टर जावेद के द्वारा कस्बे में हॉस्पिटल खोला गया है।

जिसमें अप्रशिक्षित लोगों के द्वारा मरीजों का ऑपरेशन करना व भ्रूण हत्या का कार्य किया जा रहा है जो स्वास्थ्य विभाग के नाक के नीचे मरीजों के जीवन से खिलवाड़ जारी हैं जिस पर स्वास्थ्य विभाग की नजर नहीं पड़ रही है।बेहजम कस्बे में अस्पताल खोलकर ऑपरेशन कर मरीजों के जीवन से खिलवाड़ कर रहे है।इस खेल में सीएचसी बेहजम क्षेत्र में तैनात आशा बहुओं के द्वारा इस अस्पताल में महिलाओं के प्रसव हुआ उनके सीजर ऑपरेशन कराने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के महिलाओं को व उनके तीमारदारों को डरा धमका कर ले जाकर भर्ती कराया जाता है जहां मरीजों का सीन है

ऑपरेशन कर भारी भरकम रकम वसूल की जाती है यही नहीं भ्रूण हत्या कराने के नाम पर लोगों की जुबान पर रॉयल हॉस्पिटल आता है इस गंदे खेल में एक बैचलर आफ फिजियोथैरेपी के द्वारा अपने कार्य से हटकर ग्रामीण क्षेत्र की भोली भाली गर्भवती महिलाओं के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रहा है।सूत्र बताते हैं कि इस अस्पताल में इस फिजियोथैरेपिस्ट के द्वारा ही ऑपरेशन किए जा रहे हैं वह भ्रूण हत्या का कार्य भी इन्हीं के द्वारा किया जाता है जबकि इनके द्वारा हड्डी का एक्सरसाइज कराने का इनके द्वारा डिप्लोमा कर प्रशिक्षित हुए हैं लेकिन यह एक सर्जन का कार्य कर गर्भवती महिलाओं व गर्भपात कराने का बीणा उठाए हुए हैं।

इस बाबत में जब मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ मनोज अग्रवाल के सीयूजी नंबर 9454455212 पर फोन कर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उनका फोन न उठने के कारण उनके पक्ष की जानकारी नही हो सकी।

जब मीडिया ने इस बाबत में जब रायल अस्पताल संचालक कथित डा. जावेद से जानकारी चाही गई तो उन्होंने बताया कि अस्पताल का पंजीकरण नही है मेरे पास बैचलर आफ फिजियोथेरेपी की डिग्री है।
 मेरे अस्पताल में जो मरीज भर्ती दिख रहे हैं वो मेरे रिश्तेदार हैं।

Back to top button