क्राइम

अनिल दुजाना को शरण देने वाला गिरफ्तार, पुलिस की हिट लिस्ट में शामिल है कुख्यात बदमाश का गैंग

गौतमबुद्ध नगर का निवासी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश का कुख्यात बदमाश अनिल दुजाना को शरण देने के मामले में बादलपुर पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस आरोपी को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ कर रही है। इस समय अनिल दुजाना उर्फ अनिल नागर एक मुकदमे में फरार चल रहा है। पुलिस ने अनिल दुजाना पर 5 हजार रुपए का इनाम घोषित किया हुआ है।

अनिल दुजाना के खिलाफ बादलपुर थाना में मुकदमा दर्ज
एडीसीपी अंकुर अग्रवाल ने बताया कि कुख्यात बदमाश अनिल दुजाना के खिलाफ ग्रेटर नोएडा के बादलपुर थाना में धारा 506 के अंतर्गत मुकदमा दर्ज है। इस समय अनिल दुजाना धारा 506 के अंतर्गत फरार चल रहा है। जिसकी तलाश में गौतमबुद्ध नगर पुलिस जुटी हुई है। उन्होंने बताया कि अनिल दुजाना को पकड़ने के लिए पुलिस ने उस पर 5 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है।

अनिल दुजाना को शरण देने वाला गिरफ्तार
अंकुर अग्रवाल ने बताया कि अनिल दुजाना को ग्रेटर नोएडा के बंबावड़ गांव का रहने वाला चंद्रपाल नाम का एक व्यक्ति शरण दे रहा था। एक जानकारी पर पुलिस ने चंद्रपाल को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि अनिल दुजाना अभी तक पकड़ा नहीं गया है। पुलिस को आशंका है कि चंद्रपाल को अनिल दुजाना के छुपने के बारे में पता होगा। पुलिस आरोपी और अनिल दुजाना को शरण देने वाले चंद्रपाल से पूछताछ कर रही है।

पुलिस की जिले के लोगों से अपील
अनिल के खिलाफ पहले भी गौतमबुद्ध नगर के अलग-अलग थानों में काफी मुकदमे दर्ज है। अनिल दुजाना हिस्ट्रीशीटर और कुख्यात गैंगस्टर के साथ गैंग लीडर भी है। थाना बादलपुर में जो मुकदमा दर्ज किया गया है। उसमें अनिल दुजाना फरार चल रहा है। जिसके तहत इस बदमाश के खिलाफ 5000 रुपए का इनाम घोषित किया गया है। पुलिस की लोगों से अपील है कि जिले के किसी भी व्यक्ति को अनिल दुजाना की कोई भी जानकारी प्राप्त होती है तो वह तुरंत बादलपुर थाने में सूचना दें।

3 महीने पहले हुआ था महाराजगंज जेल से रिहा
आपको बता दें अनिल दुजाना करीब 3 महीने पहले महाराजगंज जेल से जमानत पर छूट गया था। वह पहले तबादला करवाकर दिल्ली की तिहाड़ जेल जाना चाहता था। अनिल दुजाना के वकीलों ने लंबी जद्दोजहद के बाद उसे उत्तर प्रदेश की जेल से निकालने में कामयाबी हासिल कर लिया था। अनिल दुजाना, उसके गुर्गे और परिवार के सदस्य लगातार उसकी सलामती को लेकर चिंतित थे। परिजनों का कहना था कि महाराजगंज से गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद की अदालत में पेशी पर आना-जाना जोखिम भरा है।

मानवाधिकार आयोग, सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति तक को लिखा था पत्र
गैंगस्टर अनिल दुजाना पिछले कई सालों से जेल में बंद था। उसे एक और पुलिस और दूसरी ओर सुंदर भाटी गैंग से लगातार खतरा बना हुआ था। जिसके चलते उसने अब तक जमानत हासिल नहीं की थी, लेकिन महाराजगंज से गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद में मुकदमों की पैरवी के लिए पुलिस कस्टडी में आना-जाना पड़ता था। इसे लेकर वह कई बार अपनी जान को खतरा बता चुका था। उसके परिवार के सदस्यों ने कई बार मानवाधिकार आयोग, सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति को पत्र लिखकर शिकायत की थी। करीब 3 महीने पहले एक मामले में अनिल दुजाना ने जमानत ले ली है।

यूपी पुलिस की हिट लिस्ट में शामिल है अनिल दुजाना गैंग 
अनिल दुजाना गैंग उत्तर प्रदेश पुलिस की हिट लिस्ट में शामिल है। यही वजह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर अनिल दुजाना और उसके गुर्गों के खिलाफ बड़े पैमाने पर गौतमबुद्ध नगर पुलिस कमिश्नरेट ने कार्यवाही की है। अनिल दुजाना गैंग की करोड़ों रुपए की संपत्तियां जब्त की गई हैं। इस गैंग के ज्यादातर मेंबर इस वक्त उत्तर प्रदेश की अलग-अलग जेलों में बंद हैं। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद इन गैंगस्टर्स के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया गया। जिसके बाद एक-एक करके तमाम कुख्यात गिरफ्तार कर लिए गए।

Back to top button